कक्षा 3 हिंदी व्याकरण एनसीईआरटी समाधान

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 3 हिंदी व्याकरण – वर्ण और वर्णमाला, भाषा, संज्ञा और सर्वनाम, लिंग, वचन और क्रिया, विलोम शब्द, पर्यायवाची शब्द, मुहावरे, अनेक के लिए एक शब्द, पत्र, अनुच्छेद, कहानी, संवाद लेखन आदि यहाँ दिए गए हैं। तीसरी कक्षा के हिंदी ग्रामर के सभी पाठों को सत्र 2022-2023 के लिए संशोधित किए गए हैं। हिंदी व्याकरण की ये पठन सामग्री सभी कक्षा 3 के विद्यार्थियों के लिए बहुत अधिक उपयोगी है। दिए गए 18 अध्यायों के माध्यम से कक्षा 3 हिंदी व्याकरण सिलेबस को सामिल गया है।

कक्षा 3 के लिए हिंदी व्याकरण पुस्तक

कक्षा 3 के लिए हिंदी व्याकरण सत्र 2022-2023

अध्याय 1. भाषा और व्याकरण
अध्याय 2. वर्ण और वर्णमाला
अध्याय 3. शब्द विचार
अध्याय 4. संज्ञा
अध्याय 5. सर्वनाम
अध्याय 6. विशेषण
अध्याय 7. लिंग
अध्याय 8. वचन
अध्याय 9. क्रिया
अध्याय 10. वाक्य
अध्याय 11. अनेक शब्दों के लिए एक शब्द
अध्याय 12. विलोम शब्द
अध्याय 13. पर्यायवाची शब्द
अध्याय 14. मुहावरे
अध्याय 15. पत्र लेखन
अध्याय 16. अनुच्छेद लेखन
अध्याय 17. कहानी लेखन
अध्याय 18. संवाद लेखन

कक्षा 3 के लिए एनसीईआरटी समाधान

iconicon

कक्षा 3 हिंदी व्याकरण का सरल अध्ययन

कक्षा 3 हिंदी व्याकरण में भाषा और बोलियों के बारे में पढ़ते हुए हम यह जानेंगे कि लिखित और मौखिक भाषा क्या होती है। बोलियाँ और भाषा किस प्रकार से भिन्न हैं। वर्णमाला अध्याय में हम वर्णों से शब्द और फिर शब्दों से वाक्य बनाना सीखते हैं। तीसरी कक्षा के लिए हिंदी व्याकरण पुस्तक में हम सार्थक और निरर्थक शब्दों में भी भेद कर पाएंगे। संज्ञा और सर्वनाम के प्रयोग तथा उनके मुख्य भेदों के बारे में भी हम कक्षा 3 हिदी व्याकरण में ही पढ़ते हैं। यहाँ दिए गए वर्ग 3 हिंदी ग्रामर के सभी पाठों को पढ़ने के बाद अभ्यास के प्रश्न अवश्य करें ताकि पाठ से संबंधित सभी तथ्यों को अच्छी तरह से सीख सकें।

हिंदी व्याकरण कक्षा 3 में वचन, क्रिया और वाक्य

कक्षा 3 हिंदी व्याकरण के अध्यायों 8, 9 और 10 में क्रमशः वचन, क्रिया और वाक्य के बारे में विस्तार से पढेंगे। वचन के बारे में हमने पिछली कक्षाओं में भी पढ़ा हुआ है। इस कक्षा में विभिन्न उदाहरणों की मदद से पहले पढ़ी गई बातों को और मजबूत करेंगे। इसी प्रकार क्रिया और वाक्यों को भी विस्तार से सीखेंगे। क्रिया के विभिन्न भेदों के बारे में उदहारण सहित सरल तरीके से पढेंगे। कक्षा 3 हिंदी व्याकरण में लगभग सभी अध्याय सरल भाषा में विस्तृत रूप से दिए गए हैं। इससे किसी भी छात्र को इसे समझने में कोई परेशानी नहीं होगी।

कक्षा 3 हिंदी व्याकरण में विलोम शब्द, मुहावरे और पर्यायवाची शब्द

पिछली कक्षाओं की भांति कक्षा 3 हिंदी व्याकरण में भी हम विलोम शब्दों को पढ़ते हैं। बार-बार विलोम शब्दों के प्रयोग से ये हमारी दैनिक लेखन प्रक्रिया में शामिल हो जाते हैं और वाक्यों की सटीकता को बढ़ाते हैं। विलोम शब्द की ही भांति पर्यायवाची शब्द या समानार्थक शब्द होते हैं जो लगभग सभी कक्षाओं में पढ़ाए जाते हैं ताकि अधिक से अधिक पर्यायवाची शब्दों को सीख सकें और वाक्यों में शब्द विशेष का प्रयोग कर सकें। मुहावरों का अध्ययन छात्र पहली बार कक्षा 3 हिंदी व्याकरण में करते हैं। यहाँ हम पढ़ते हैं कि मुहावरे क्या होते हैं और इनका क्या अर्थ होता है। साथ ही साथ मुहावरों के सही प्रयोग का अध्ययन भी करेंगे।

तीसरी कक्षा के लिए हिंदी व्याकरण में लेखन कला

जीतना अधिक हम लिखेंगे किसी भाषा या विषय को समझने में हमें उतनी ही अधिक आसानी होगी। कक्षा 3 में निबंध लेखन हो या पत्र लेखन या चाहे कहानी लेखन, ये सदैव हमारी कल्पना शक्ति को बढ़ाता है और हमारी लेखन कला के विकास में भी सहयोग करता है। पिछली कक्षाओं में हमने अनुच्छेद लेखन तथा कहानी लेखन का अध्ययन किया था। कक्षा 3 हिंदी व्याकरण में हम कहानी और अनुच्छेद के साथ साथ पत्र लेखन और संवाद लेखन के बारे में भी पढेंगे। यहाँ संवाद लेखन और पत्र लेखन को केवल आधार मजबूत करने के लिए संक्षेप में बताया गया है। अगली कक्षा में हम इसे विस्तार से पढ़कर, इसके विभिन्न प्रकारों को भी समझेंगे।

कक्षा 3 हिंदी व्याकरण में कुल कितने अध्याय हैं?

कक्षा 3 के लिए हिंदी व्याकरण की विभिन्न पुस्तकों में 15 से 20 तक हो सकते हैं। एनसीईआरटी या सीबीएसई द्वारा मुद्रित तीसरी कक्षा की कोई पुस्तक नहीं है। इसलिए अलग अलग पुस्तकें अध्यायों की संख्या भी बताती हैं। तिवारी अकादमी पर उपलब्ध कक्षा 3 हिंदी व्याकरण की पुस्तक में कुल 18 अध्याय हैं, जो नवीनतम सीबीएसई सिलेबस के अनुसार तैयार किए गए हैं।

तीसरी कक्षा के व्याकरण में सबसे अधिक कठिन अध्याय कौन सा है?

कक्षा 3 हिंदी ग्रामर में कुल 18 अध्याय हैं जिसमें से भाषा और व्याकरण, विशेषण, पत्र लेखन, संवाद लेखन आदि कुछ पाठों को समझने या याद करने में कई छात्रों को थोड़ी परेशानी होती है। बाकी सभी पाठ न केवल आसान हैं बल्कि छात्रों ने इसे पिछली कक्षाओं में भी पढ़ा हुआ है।

क्या कक्षा 3 में हिंदी व्याकरण एक कठिन विषय है?

कक्षा 3 हो या कोई और कक्षा, हिंदी व्याकरण सदैव एक आसान और समझकर लिखने वाला विषय रहा है। सही तरीके से अभ्यास करने पर हम व्याकरण के साथ साथ हम अपने हिंदी विषय को भी बहुत मजबूत बना सकते हैं। वास्तव में हिंदी व्याकरण, हिंदी भाषा को सटीकता और मजबूती प्रदान करने के लिए ही होता है।