एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 संस्कृत अध्याय 8 त्रिवर्ण ध्वज:

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 संस्कृत अध्याय 8 अष्टम: पाठ: त्रिवर्ण: ध्वज: के प्रश्न उत्तर, अभ्यास के सभी प्रश्न, अतिरिक्त प्रश्न तथा उनके उत्तर शैक्षणिक सत्र 202 1-2022 के लिए यहाँ से प्राप्त किए जा सकते हैं। सभी समाधान निशुल्क हैं और इसके लिए किसी पंजीकरण की भी कोई आवश्यकता नहीं है। पाठ को समझने के लिए पूरे पाठ का हिंदी अनुवाद भी दिया गया है। प्रयेक पंक्ति को अलग से लिखकर उसका अनुवाद दिया गया है ताकि आसानी से समझ आ सके।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 संस्कृत अष्टम: पाठ: त्रिवर्ण: ध्वज:

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7

iconicon

कक्षा 7 संस्कृत अध्याय 8 त्रिवर्ण ध्वज के हिंदी अनुवाद

संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
(केचन बालका: काश्चन बालिकाश्च स्वतन्त्रता-दिवसस्य ध्वजारोहणसमारोहे सोत्साहं गच्छन्त: परस्परं संलपन्ति।)(कुछ बालक और कुछ बालिकाएँ स्वतन्त्रता – दिवस के ध्वजारोहण समारोह में उत्साहपूर्वक जाते हुए आपस में वार्तालाप कर रहे हैं।)
देवेश: – अद्य स्वतन्त्रता-दिवस:। देवेश – आज स्वतंत्रता दिवस है।
अस्माकं विद्यालयस्य प्राचार्य: ध्वजारोहणं करिष्यति। हमारे विद्यालय के प्रधानाचार्य ध्वजारोहण करेंगे (झंडा फहराएँगे)।
छात्राश्च सांस्कृतिककार्यक्रमान्‌ प्रस्तोष्यन्ति। अन्ते च मोदकानि मिलिष्यन्ति।विद्यार्थी सांस्कृतिक कार्यक्रमों को प्रस्तुत करेंगे और अन्त में लड्डू मिलेंगे।
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
डेविड: – शुचे! जानासि त्वम्‌?डेविड- शुचि ! क्या तुम जानती हो?
अस्माकं ध्वज: कीदृश:?हमारा झंडा कैसा है?
शुचि: – अस्माकं देशस्य ध्वज: त्रिवर्ण: इति।सुची- हमारे देश का झंडा तिरंगा है।
सलीम: – रुचे! अयं त्रिवर्ण: कथम्‌?सलीम – रूचि ! यह तिरंगा क्यों है?
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
रुचि: – अस्मिन्‌ ध्वजे त्रय: वर्णा: सन्ति, अत: त्रिवर्ण:। रूचि – इस झंडे में तीन रंग हैं, इसलिए यह तिरंगा हैं।
किं त्वम्‌ एतेषां वर्णानां नामानि जानासि?क्या तूम इन रंगों के नाम जानते हो?
सलीम: – अरे! केशरवर्ण:, श्वेत:, हरित: च एते त्रय: वर्णा:।सलीम – अरे ! केसरी रंग, सफ़ेद और हरा ये तीन रंग हैं?
देवेश: – अस्माकं ध्वजे एते त्रय: वर्णा: किं सूचयन्ति?देवेश – हमारे ध्वज में ये तीन रंग क्या सूचित करते हैं?
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
सलीम: – शृणु, केशरवर्ण: शौर्यस्य, श्वेत: सत्यस्य, हरितश्च समृद्धे: सूचका: सन्ति।सलीम – सुनो, केसरी रंग वीरता का, सफ़ेद सत्य का और हरा समृद्धि का सूचक है।
शुचि: – किम्‌ एतेषां वर्णानाम्‌ अन्यदपि महत्त्वम्‌?शुचि – क्या इन रंगों का कोई और भी महत्व है?
डेविड: – आम्‌! कथं न? ध्वजस्य उपरि स्थित: केशरवर्ण: त्यागस्य उत्साहस्य च सूचक:। डेविड – हाँ, क्यों नहीं, ध्वज के ऊपर स्थित केसरी रंग त्याग व उत्साह का सूचक है।
मध्ये स्थित: श्वेतवर्ण: सात्त्विकताया: शुचिताया: च द्योतक:।बीच में स्थित सफ़ेद रंग सात्विकता और ईमानदारी का द्योतक है।
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
अध: स्थित: हरितवर्ण: वसुन्धराया: सुषमाया: उर्वरतायाश्च द्योतक:।नीचे स्थित हरा रंग पृथ्वी की सुषमा व उर्वरता का द्योतक है।
तेजिन्दर: – शुचे! ध्वजस्य मध्ये एकं नीलवर्णं चकं्र वर्तते?तेजिन्दर- ध्वज के मध्य में एक नीले रंग का चक्र है?
शुचि: – आम्‌ आम्‌। इदम्‌ अशोकचक्रं कथ्यते। शुचि- हाँ हाँ! यह अशोक चक्र कहलाता है।
एतत्‌ प्रगते: न्यायस्य च प्रवर्तकम्‌।यह प्रगति और न्याय का प्रवर्तक है।
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
सारनाथे अशोकस्तम्भ: अस्ति। तस्मात्‌ एव एतत्‌ गृहीतम्‌।सारनाथ में अशोक स्तम्भ है। यह वहाँ से ही लिया गया है।
प्रणव: – अस्मिन्‌ चके्र चतुर्विंशति: अरा: सन्ति।प्रणव :- इस चक्र में 24 तीलियाँ हैं।
मेरी – भारतस्य संविधानसभायां 22 जुलाई 1947 तमे वर्षे समग्रतया अस्य ध्वजस्य स्वीकरणं जातम्‌?मेरी – भारतस्य संविधानसभायां 22 जुलाई 1947 तमे वर्षे समग्रतया अस्य ध्वजस्य स्वीकरणं जातम्‌?
तेजिन्दर: – अस्माकं त्रिवर्ण: ध्वज: स्वाधीनतया: राष्ट्रगौरवस्य च प्रतीक:। तेजिन्दर – हमारा तिरंगा झण्डा स्वाधीनता और राष्ट्रगौरव का प्रतीक/चिह्न है।
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
तेजिन्दर: – अस्माकं त्रिवर्ण: ध्वज: स्वाधीनतया: राष्ट्रगौरवस्य च प्रतीक:। तेजिन्दर – हमारा तिरंगा झण्डा स्वाधीनता और राष्ट्रगौरव का प्रतीक/चिह्न है।
अत एव स्वतन्त्रतादिवसे गणतन्त्रदिवसे च अस्य ध्वजस्य उत्तोलनं समारोहपूर्वकं भवति।इसलिए स्वतन्त्रता दिवस और गणतन्त्र दिवस पर इस ध्वज को समारोहपूर्वक फहराया जाता है।
जयतु त्रिवर्ण: ध्वज:, जयतु भारतम्‌।तिरंगा झण्डा विजयी हो अर्थात् तिरंगे झंडे की जय हो। भारत की जय हो।
कक्षा 7 संस्कृत अध्याय 8 एनसीईआरटी समाधान
कक्षा 7 संस्कृत अध्याय 8 एनसीईआरटी समाधान के उत्तर
कक्षा 7 संस्कृत अध्याय 8 एनसीईआरटी के प्रश्न उत्तर
कक्षा 7 संस्कृत अध्याय 8 एनसीईआरटी समाधान पीडीएफ