एनसीईआरटी समाधान कक्षा 4 हिंदी अध्याय 11 पढ़क्कू की सूझ

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 4 हिंदी रिमझिम अध्याय 11 पढ़क्कू की सूझ अभ्यास के प्रश्न उत्तर जैसे रिक्त स्थान भरना, मिलन आदि के हल सीबीएसई सत्र 2022-2023 के लिए पीडीएफ यहाँ से प्राप्त करें। कक्षा 4 हिंदी रिमझिम में पाठ 11 में कहानी पढ़क्कू नाम के एक लड़के की है जो गूंगा था लेकिन खुद को होशियार समझता था। पूरी कहानी उसके सूझ बूझ पर आधारित है। परीक्षा की तैयारी के लिए अतिरिक्त प्रश्न उत्तर भी यहाँ से प्राप्त किए जा सकते हैं।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 4 हिंदी रिमझिम अध्याय 11

कक्षा 4 ऐप डाउनलोड मुफ़्त

iconicon

कक्षा 4 हिंदी अध्याय 11: कविता का भावार्थ

इस कविता में पढ़क्कू नामक एक व्यक्ति जो तर्कशास्त्र में बड़ा तेज था उसके दिमाग में नए नए तर्क उठते रहते थे। एक बार उसने सोचा कि कोल्हू का बैल बिना हांके कैसे अपने आप घूमता रहता है। कई दिनों तक यह बात उसके दिमाग में घूमती रही कि कहीं इस कोल्हू के मालिक ने इस बैल को सिखा रखा है। आखिर जब उससे रहा नहीं गया तो एक दिन कोल्हू वाले के पास गया और कहने लगा कि जरा बताओ कि तुम्हें कैसे पता चलता है कि तुम्हारा बैल चल रहा या रुका हुआ है। कोल्हू के मालिक ने कहा इसमें कौन सी बड़ी बात है मैनें बैल के गले में घंटी बाँध रखी है जब तक बजती रहती है तब तक बैल चल रहा है अगर रुकता है तो थोड़ा सा पूंछ मरोड़ देते हैं और बैल चल पड़ता है। पढ़क्कू ने कोल्हू वाले से कहा तुम सदा बेवकूफ ही रहोगे किसी दिन अगर बैल को ये सारी बातें मालूम हो गयी और खड़े-खड़े गर्दन हिलाकर घंटी बजाता रहे। इससे तो शाम तक एक बूंद भी तेल नहीं मिलेगी। कोल्हू वाले ने पढ़क्कू को कहा तुम अपने तर्क अपने पास रखो। हमारा यह बैल अभी तक तर्कशास्त्र नहीं पढ़ा है।

पढ़क्कू का नाम पढ़क्कू क्यों पड़ा होगा?

उत्तर:
पढ़क्कू हमेशा पढ़ता ही रहता होगा इसलिए उसका नाम पढ़क्कू पड़ा होगा।

मगर बूँद भर तेल सांझ तक भी क्या तुम पाओगे?

उत्तर:
तुम्हें शाम तक एक भी बूंद तेल नहीं मिलेगा।

बैल हमारा नहीं अभी तक मंतिख पढ़ पाया है।

उत्तर:
हमारा बैल अभी तक तर्कशास्त्र नहीं पढ़ पाया है।

सिखा बैल को रखा इसने निश्चय कोई ढब है।

उत्तर:
कोल्हू वाले ने अवश्य ही बैल को कोई तरकीब सीखा राखी है।

जहाँ न कोई बात, वहाँ भी नई बात गढ़ते थे।

उत्तर:
बिना बात के भी तर्क वितर्क करना।

कक्षा 4 हिन्दी के अध्याय 11 को छात्र कितने समय में तैयार कर सकते हैं?

पाठ सरल और छोटा है इसलिए छात्र इसे एक दिन में अच्छी तरह से तैयार कर सकते हैं।

कक्षा 4 हिन्दी अध्याय 11 को छात्र आसानी से तैयार कर सकते हैं?

पाठ आसान है अतः इसको तैयार करने में छात्रों को किसी प्रकार की कठिनाई नहीं होगी।

क्या हिन्दी कक्षा 4 के अध्याय 11 छात्रों के लिए रुचिकर है?

इस अध्याय को रुचिकर तो नहीं कह सकते लेकिन छोटा होने से विद्यार्थी इसे आसानी से समझ सकते हैं।