एनसीईआरटी समाधान कक्षा 4 हिंदी अध्याय 1 मन के भोले-भाले बादल

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 4 हिंदी रिमझिम अध्याय 1 मन के भोले-भाले बादल में दिए गए अभ्यास के प्रश्न उत्तर सीबीएसई सत्र 2022-2023 के लिए पीडीएफ यहाँ से डाउनलोड की जा सकती हैं। कक्षा 4 हिंदी रिमझिम पाठ 1 की कविता वयस्कों और बच्चों दोनों के लिए बादलों के आकर्षण का वर्णन करती है। कविता पर आधारित अतिरिक्त प्रश्न उत्तर भी दिए गए हैं जो विद्यार्थियों के लिए परीक्षा के समय तैयारी करने में या पाठ का अभ्यास करने में मदद करते हैं।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 4 हिंदी रिमझिम अध्याय 1

कक्षा 4 के लिए एनसीईआरटी समाधान

iconicon

कक्षा 4 हिंदी अध्याय 1: कविता का भावार्थ

कविता में बादलों के कई तरह के आकार प्रकार और उनके गुण धर्म का वर्णन किया गया है। आसमान में दौड़ते हुए काले बादल ऐसे दिखते हैं जैसे किसी के झबरीले बाल या गुबारे जैसे फूले हुए गाल हों। कवि उनकी वनावट की तुलना अलग-अलग जानवरों से करता है जैसे: फूली हुई जोकर की तोंद, उठी हुई हाथी की सूड और कुछ कूबड़ वाले ऊंटों की तरह दिख रहे हैं। कुछ परियों के सामान पंख फैलाकर उड़ रहे हैं। कुछ मतवाले शेरों की तरह आपस में टकराते हैं। उनके हाव-भाव भी अलग तरह के हैं, कुछ को देख के लगता है कि वो शैतान और कुछ तूफ़ान लाने वाले लगते हैं। कुछ अपने थैलों से पानी बरसा देते हैं। ये कभी छत पर आ जाते हैं और कभी उड़ जाते हैं। कभी जिद्दी बनकर नदी और नालों में बाढ़ ला देते हैं। इन सबके बावजूद ये भोले-भाले बादल मन को बहुत अच्छे लगते हैं।

(क) बादल नदी-नालों में बाढ़ कैसे लाते होंगे?

उत्तर:
बादल जब अत्यधिक वर्षा करते हैं तो नदी और नालों में बाढ़ आ जाती है।

(ख) बादल ढोल कैसे बजाते होंगे?

उत्तर:
बादल जब आपस में टकराते हैं तो ऐसा लगता है कि जोर से ढोल बजा रहे हों।

(ग) बादल कैसी शैतानियाँ करते होंगे?

उत्तर:
बादल जब तूफानी रूप धारण करते हैं तो वे किसी शैतान से कम नहीं लगते।

साल के किन-किन महीनों में ज़्यादा बादल छाते हैं?

उत्तर:
साल के बरसात वाले महीनों में बादल अधिक छाये रहते हैं।

कविता में ‘काले’ बादलों की बात की गई है। क्या बादल सचमुच काले होते हैं?

उत्तर:
कई बार बादल इतने ज्यादा घने होते हैं कि उनका रंग काला नजर आता है।

कविता में बादलों को ‘भोला’ कहा गया है। इसके अलावा बादलों के लिए और कौन-कौन से शब्दों का इस्तेमाल किया गया है? नीचे लिखे अधूरे शब्दों को पूरा करो। म ……………… ज़ि ……………… शै ……………… तू ……………..

उत्तर:
मतवाले
जिद्दी
शैतान
तूफान

क्या कक्षा 4 हिन्दी अध्याय 1 को छात्र आसानी से तैयार कर सकते हैं?

इस अध्याय में अलंकार शैली का प्रयोग बहुत ज्यादा होता है जिससे कहानी और ज्यादा रुचिकर बन जाती है। सभी जानते हैं कि रुचिकर कहानी जल्दी याद भी हो जाती है इसलिए इसका पठान-पाठन आसन हो जाता है साथ ही सम्बन्धित प्रश्नों का उत्तर भी सुगम हो जाता है।

क्या हिन्दी कक्षा 4 के अध्याय 1 छात्रों के लिए रुचिकर है?

कहानी में बादलों की तुलना बहुत सारे जीव-जंतुओं से की गई है और उनके क्रिया कलापों की तुलना भी अतिशयोक्तिपूर्ण ढंग से की गई है अतः छात्रों को पाठ की शैली अवश्य पसंद आयेगी।

कक्षा 4 हिन्दी का अध्याय 1 को छात्र कितने समय में तैयार कर सकते हैं?

पाठ की विषय वस्तु के अनुसार इसको आसानी से एक दिन के अन्दर तैयार किया जा सकता है।