कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 एनसीईआरटी समाधान – प्राकृतिक संपदा

कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 एनसीईआरटी समाधान पाठ 14 प्राकृतिक संपदा अभ्यास के प्रश्न उत्तर, पेज के बीच बीच में दिए गए प्रश्नों के जवाब तथा पाठ के महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर यहाँ से प्राप्त किए जा सकते हैं। 9वीं कक्षा विज्ञान अध्याय 14 के लिए एनसीईआरटी समाधान शैक्षणिक सत्र 2021-2022 के लिए संशोधित किए गए हैं। यूपी, एमपी, बिहार बोर्ड के साथ साथ उत्तराखंड, राजस्थान, सीबीएसई तथा अन्य बोर्ड के विद्यार्थी भी इसका लाभ उठा सकते हैं। कक्षा 9 विज्ञान समाधान ऐप में भी प्रश्न उत्तर सत्र 2021-2022 के अनुसार संशोधित किए गए हैं।

कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 के लिए एनसीईआरटी समाधान

कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 के बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQ) उत्तर

Q1

वायुमंडल में मिलने वाली ऑक्सीजन के दो रूप कौन-से हैं?

[A]. जल तथा ओज़ोन
[B]. जल तथा ऑक्सीजन
[C]. जल तथा कार्बन डाइऑक्साइड
[D]. ओज़ोन तथा ऑक्सीजन
Q2

वायु में उपस्थित नाइट्रोजन के अणु निम्नलिखित के कारण नाइटे्रट तथा नाइट्राइट में परिवर्तित हो जाते हैं

[A]. मृदा में पाए जाने वाले नाइट्रोजन स्थिरीकारी जीवाणु की जैविक प्रक्रिया द्वारा
[B]. मृदा में पाए जाने वाले कार्बन स्थिरीकारी कारक जैविक प्रक्रिया द्वारा
[C]. नाइट्रोजन यौगिक बनाने वाले किसी उद्योग के द्वारा
[D]. उन पौधों के द्वारा जिन्हें खेत में अनाज फसलों के लिए उपयोग में लाते हैं
Q3

“जल-प्रदूषण” शब्द की परिभाषा कई प्रकार से दी जा सकती है। निम्नलिखित में से किस कथन में उचित परिभाषा नहीं है?

[A]. जलाशयों में अवांछित पदार्थों का मिलाया जाना
[B]. जलाशयों के तापक्रम में परिवर्तन होना
[C]. जलाशयों से वांछनीय पदार्थों का निकाला जाना
[D]. जलाशयों के दाब में परिवर्तन होना
Q4

ओजॉन परत का ह्रास हो रहा है क्योंकि

[A]. अत्यधिक वनों की कटाई
[B]. मोटरगाड़ियों का अत्यधिक उपयोग
[C]. औद्योगिक इकाइयों का अत्यधिक निर्माण
[D]. मनुष्य-निर्मित यौगिकों का (जिनमें ल्लोरीन और क्लोरीन दोनों के यौगिक शामिल हैं), अत्यधिक उपयोग होना

जैविक प्रक्रियाओं में कार्बन डाइऑक्साइड

यूकैरियोटिक कोशिकाओं और बहुत-सी प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं को ग्लूकोस अणुओं को तोड़ने तथा उससे ऊर्जा प्राप्त करने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। इसके परिणामस्वरूप कार्बन डाइऑक्साइड की उत्पत्ति होती है। दूसरी प्रक्रिया दहन की क्रिया है जिसके परिणामस्वरूप ऑक्सीजन की खपत होती है और कार्बन डाइऑक्साइड का उत्पादन होता है।

कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 के अतिरिक्त प्रश्न उत्तर

बादलों का निर्माण कैसे होता है?

दिन के समय जब जलीय भाग गर्म हो जाते हैं, तब बहुत बड़ी मात्रा में जलवाष्प बन जाती है और यह जलवाष्प वायु में प्रवाहित हो जाती है। जलवाष्प की कुछ मात्रा विभिन्न जैविक क्रियाओं के कारण भी वायुमंडल में चली जाती है। यह वायु भी गर्म हो जाती है और अपने साथ जलवाष्प को लेकर ऊपर की ओर उठ जाती है। जैसे ही वायु ऊपर की ओर जाती है यह फैलती है और ठंडी हो जाती है। ठंडा होने के कारण हवा में उपस्थित जलवाष्प छोटी – छोटी जल की बूंदों के रूप में संघनित हो जाती है और यह संघनन ही बाद में बादल का निर्माण करते हैं।

शुक्र और मंगल ग्रहों के वायुमंडल से हमारा वायुमंडल कैसे भिन्न है?

हमारे वायुमंडल में लगभग सभी प्रकार की गैसें (उदाहरण के लिए आक्सीजन, 0.06% कार्बन डाइआक्साइड, नाइट्रोजन, सल्फर डाइआक्साइड आदि) उपस्थित हैं जबकि शुक्र तथा मंगल ग्रहों पर वायुमंडल में 95 से 97 प्रतिशत तक कार्बन डाइआक्साइड है।

वायुमंडल एक कंबल की तरह कैसे कार्य करता है?

वायु ताप का कुचालक होता है। अतः, दिन के समय वायुमंडल होने के कारण सूर्य से आने तापमान का कुछ ही भाग पृथ्वी तक आ पता है और रात के समय ऊष्मा को बाहरी अंतरिक्ष में जाने से रोकता है। इस प्रकार वायुमंडल, पृथ्वी के औसत तापमान को दिन और रात से समय पुरे वर्ष लगभग नियत बनाए रखता है।

वायु प्रवाह (पवन) के क्या कारण हैं?

वायु प्रवाह की प्रकिया हमारे वायुमंडल में हवा के गर्म होने और जलवाष्प के बनने का परिणाम हैं। जल की अपेक्षा स्थल जल्दी गर्म होता है। स्थल के ऊपर की वायु तेजी से गर्म होकर ऊपर उठना शुरू करती है। जैसे ही यह वायु ऊपर उठती है, वहाँ कम दाब का क्षेत्र बन जाता है और आस – पास की वायु (या समुद्र के ऊपर की वायु) कम दाब वाले क्षेत्र की ओर प्रवाहित हो जाती है। इस प्रकार एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में वायु की गति वायु प्रवाह (पवनों) का निर्माण करती है।

कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

मृदा (मिट्टी) का निर्माण किस प्रकार होता है?

सूर्य, जल, वायु और जीव मृदा निर्माण प्रकिया में विभिन्न भूमिका निभाते हैं। सूर्य पत्थरों को दिन में गर्म कर देता है जिससे वे फैलते हैं तथा रात के समय ये ठंडे होकर सिकुड़ते हैं। ये फैलना और सिकुड़ना समान रूप से नहीं होता है जिसके कारण पत्थरों में दरार पड़ जाती है और बड़े पत्थर टूटकर छोटे हो जाते हैं। कई बार पत्थरों की दरारों में जल भर जाता है और ठंडा होने पर यह जल दरारों को और चौड़ा कर देता है। जब बहता हुआ जल इन छोटे – बड़े पत्थरों को अपने साथ बहा ले जाते हैं तो ये आपस में टकराकर छोटे – छोटे कणों में बदल जाते हैं जिससे मृदा का निर्माण होता है। बहता हुआ जल तथा तेज हवा इस मृदा को मैदानों में बिछा देता है।

मृदा-अपरदन क्या है?

मृदा की उपरी उपजाऊ परत का वायु, जल आदि द्वारा बहा कर दूसरे स्थान पर ले जाना मृदा अपरदन कहलाता है। इसके मुख्य कारण वनों की कटाई, एक ही जमींन पर बार – बार खेती करना, पशुओं द्वारा अत्यधिक चराई आदि हैं।

ग्रीन हाउस प्रभाव क्या है?

कुछ गैसें (जैसे: मीथेन, कार्बन डाइऑक्साइड, आदि) पृथ्वी से ऊष्मा को पृथ्वी के वायुमंडल के बाहर जाने से रोकती हैं जिससे वातावरण का औसत तापमान बढ जाता है। इस प्रकार के प्रभाव को ग्रीन हाउस प्रभाव कहते हैं। ग्रीन हाउस प्रभाव के कारण ही वैश्विक उष्मीकरण की स्थिति उत्पन्न हो रही है।

जैविक रूप से महत्वपूर्ण दो यौगिकों के नाम दीजिए जिसमें ऑक्सीजन और नाइट्रोजन दोनों पाए जाते हों?

जैविक रूप से महत्वपूर्ण दो यौगिक प्रोटीन और न्यूक्लिक अम्ल हैं जिसमें ऑक्सीजन और नाइट्रोजन दोनों पाए जाते हैं।

कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 पेज 222 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 पेज 226 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 9 विज्ञान अध्याय 14 अभयास के प्रश्न उत्तर