एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 संस्कृत अध्याय 1 सुभाषितानि

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 संस्कृत अध्याय 1 प्रथम: पाठ: सुभाषितानि के प्रश्न उत्तर, अभ्यास के सभी प्रश्नों के विस्तार से उत्तर सीबीएसई सत्र 2022-2023 के लिए यहाँ से प्राप्त किए जा सकते हैं। विद्यार्थियों किए लिए प्रश्न उत्तर के साथ-साथ पूरे पाठ का हिंदी अनुवाद भी दिया गया है ताकि पाठ को समझने में कोई परेशानी न हो। अभ्यास के प्रश्नों को सरलता से हल किया गया है ताकि सभी छात्रों को ये समाधान आसानी से समझ में आ सकें।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 संस्कृत प्रथम: पाठ: सुभाषितानि

कक्षा 8 के लिए एनसीईआरटी समाधान

iconicon

कक्षा 8 संस्कृत अध्याय 1 सुभाषितानि का हिंदी अनुवाद

संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
गुणा गुणज्ञेषु गुणा भवन्ति, ते निर्गुणं प्राप्य भवन्ति दोषा:।गुणवान व्यक्तियों में गुण , गुण ही होते है। वे (गुण) गुणहीन व्यक्तियों को प्राप्त करके दोष बन जाते है।
सुस्वादुतोया: प्रभवन्ति नद्य:, समुद्रमासाद्य भवन्त्यपेया: ॥1॥जिस प्रकार नदियाँ स्वादिष्ट जल से युक्त निकलती है , परन्तु समुद्र में पहुंचकर वे पीने योग्य नहीं होती है।
साहित्यसङ्गीतकलाविहीन:, साक्षात्पशु: पुच्छविषाणहीन:।साहित्य , संगीत तथा कला से रहित मनुष्य वास्तव में बिना पूँछ व सींग के पशु है।
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
तृणं न खादन्नपि जीवमान:, तद्‌भागधेयं परमं पशूनाम्‌ ॥2॥जो घास न खाता हुआ भी पशु के समान जीवित है। इससे ज्यादा भाग्यशाली पशु हैं।
लुब्धस्य नश्यति यश: पिशुनस्य मैत्री, नष्टक्रियस्य कुलमर्थपरस्य धर्म:।लालची (व्यक्ति) का यश , चुगलखोर की मित्रता, जिसके कर्म नष्ट हो चुके है उसका कुल , धन को अधिक महत्त्व देने वाले व्यक्ति का धर्म।
विद्याफलं व्यसनिन: कृपणस्य सौख्यं, राज्यं प्रमत्तसचिवस्य नराधिपस्य ॥3॥बुरी लत वाले का विद्या का फल , कंजूस का सुख तथा जिसके मंत्री प्रमाद (आलस्य) से पूर्ण है (ऐसे) राजा का राज्य नष्ट हो जाता है।
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
पीत्वा रसं तु कटुकं मधुरं समानं, माधुर्यमेव जनयेन्मधुमक्षिकासौ।जिस प्रकार मधुमक्खी कड़वे अथवा मधुर रस को समान रूप से पीकर मीठा रस ही उत्पन्न करती है।
सन्तस्तथैव समसज्जनदुर्जनानां, श्रुत्वा वच: मधुरसूक्तरसं सृजन्ति ॥4॥उसी प्रकार सन्त (साधु) लोग, सज्जन और दुष्ट लोगों के वचन को एक समान रूप में सुनकर मधुर (मीठा) सूक्ति रूप रस का निर्माण करते है।
विहाय पौरुषं यो हि दैवमेवावलम्बते। जो मेहनत को छोड़कर सिर्फ भाग्य का सहारा लेते है।
संस्कृत वाक्यहिंदी अनुवाद
प्रासादसिंहवत्‌ तस्य मूर्ध्नि तिष्ठन्ति वायसा: ॥5॥वह महल में बने हुए शेर की तरह , उसके सिर पर कौवे बैठते है।
पुष्पपत्रफलच्छायामूलवल्कलदारुभि:। धन्या महीरुहा: येषां विमुखं यान्ति नार्थिन: ॥6॥फूल, पत्ते, फल, परछाई, जड़, छाल, लकड़ी से युक्त सागवान के पेड़ धन्य है। जिनके याचक विरुद्ध नहीं होते है।
चिन्तनीया हि विपदाम्‌ आदावेव प्रतिक्रिया:। न कूपखननं युक्तं प्रदीप्ते वह्निना गृहे ॥7॥विपदा आने से पहले ही समाधान सोच लेना चाहिए। घर में आग लगने पर कुआँ खोदना उचित नहीं है।
कक्षा 8 संस्कृत अध्याय 1 एनसीईआरटी समाधान
कक्षा 8 संस्कृत अध्याय 1 एनसीईआरटी के प्रश्न उत्तर
कक्षा 8 संस्कृत अध्याय 1
कक्षा 8 संस्कृत अध्याय 1 के प्रश्न उत्तर