एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 8 सूक्तिस्तबकः

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 8 सूक्तिस्तबकः पाठ्यपुस्तक रुचिरा भाग 1 के प्रश्न उत्तर तथा अन्य प्रश्नों के उत्तर सीबीएसई सत्र 2022-2023 के लिए विद्यार्थी यहाँ से निशुल्क प्राप्त कर सकते हैं। कक्षा 6 संस्कृत के सभी प्रश्न उत्तर आसान भाषा का प्रयोग करके विषय विशेषज्ञों द्वारा तैयार किए गए हैं ताकि किसी भी विद्यार्थी को इसे समझने में कोई परेशानी न हो। कक्षा 6 संस्कृत पाठ 8 की सभी सूक्तियों का हिंदी अनुवाद भी उपलब्ध है जो पाठ को समझने में बहुत सहायक सिद्ध होता है।

कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 8 के लिए एनसीईआरटी समाधान

कक्षा 6 संस्कृत के लिए ऐप

iconicon

कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 8 सूक्तिस्तबकः का हिंदी अनुवाद

संस्कृत में वाक्यहिंदी में अनुवाद
उद्यमेन हि सिध्यन्ति कार्याणि न मनोरथै:।परिश्रम से ही काम सफल होते हैं केवल इच्छाएँ करने से नहीं।
न हि सुप्तस्य सिंहस्य प्रविशन्ति मुखे मृगा:।सोए हुए शेर के मुँह में हिरण खुद ही प्रवेश नहीं करते हैं।

सूक्ति का भाव:
मनुष्य हो या जानवर अर्थात सभी जीव-जन्तुओं को अपने कार्य में सफलता पाने के लिए प्रयत्न भी स्वयं ही करना पड़ता है।

संस्कृत में वाक्यहिंदी में अनुवाद
पुस्तके पठित: पाठ: जीवने नैव साधित:।यदि पुस्तक में पढ़ा गया पाठ जीवन उपयोग में नहीं लाया जाए
किं भवेत्‌ तेन पाठेन जीवने यो न सार्थक:।तो ऐसे पाठ का क्या लाभ जो जीवन के काम न आए।

सूक्ति का भाव:
पुस्तक पढ़ी बातों को जीवन में अवश्य अपनाना चाहिए अन्यथा उसे पढने का कोई लाभ नहीं है।

संस्कृत में वाक्यहिंदी में अनुवाद
प्रियवाक्यप्रदानेन सर्वे तुष्यन्ति जन्तव:।मनुष्य प्रिय वचन सुनने पर प्रसन्न हो जाते हैं।
तस्मात्‌ प्रियं हि वक्तव्यं वचने का दरिद्रता।तो इन प्रिय वचनों का उपयोग कंजूसी से क्यों करें।

सूक्ति का भाव:
मीठे बोल सबको प्रसन्न रखने का एकमात्र सरल साधन है। अर्थात् वाणी में उदार भाव और प्रेम अधिक से अधिक होना चाहिए।

संस्कृत में वाक्यहिंदी में अनुवाद
गच्छन्‌ पिपीलको याति योजनानां शतान्यपि।चलती हुई चींटी सैकड़ों योजन की दूरी लाँघ जाती है
अगच्छन्‌ वैनतेयोऽपि पदमेकं न गच्छति।किंतु न चलता हुआ गरुड भी, एक कदम भी नहीं जाता।

सूक्ति का भाव:
जीवन में प्रयास करने से ही कार्य सिद्ध होते हैं बिना प्रयास के कुछ भी प्राप्त नहीं होता हैं।

संस्कृत में वाक्यहिंदी में अनुवाद
काक: कृष्ण: पिक: कृष्ण: को भेद: पिककाकयो:।कौआ काला होता है, कोयल भी काली होती है, कौए और कोयल में क्या अंतर है?
वसन्तसमये प्राप्ते काक: काक: पिक: पिक:।वसंतकाल आने पर कौवा कौवा है और कोयल कोयल है।

सूक्ति का भाव:
केवल रूप के आधार पर किसी के गुणों का अनुमान नहीं लगाया जा सकता, किंतु समय आने पर कार्य शैली से जीव की उपयोगिता प्रकट हो ही जाती है।

कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 8 एनसीईआरटी समाधान
कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 8
एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 संस्कृत पाठ 8
एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 संस्कृत पाठ 8 हिंदी में