एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 वृक्षाः

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 वृक्षाः पाठ्यपुस्तक रुचिरा भाग 1 के सभी प्रश्नों के उत्तर, रिक्त स्थान भरना, मिलान करना आदि प्रकार के प्रश्नों के उत्तर सीबीएसई सत्र 2022-2023 के लिए यहाँ दिए गए हैं। चरण दर चरण प्रत्येक वाक्य का हिंदी रूपांतरण भी दिया गया है ताकि बच्चों को समझने में कोई कठिनाई न हो। कक्षा 6 संस्कृत पाठ 5 में दिए गए कठिन शब्दों के अर्थों और उनके वाक्यों को भी दिया गया है ताकि विद्यार्थी परीक्षा की तैयारी आसानी से कर सकें।

कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 के लिए एनसीईआरटी समाधान

कक्षा 6 के लिए एनसीईआरटी समाधान

iconicon

कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 4 वृक्षाः का हिंदी अनुवाद

संस्कृत में वाक्यहिंदी में अनुवाद
वने वने निवसन्तो वृक्षा:। वृक्ष प्रत्येक वन में निवास करते हैं।
वनं वनं रचयन्ति वृक्षा:।वृक्ष कई जंगल बनाते हैं।
शाखादोलासीना विहगा:।पक्षी शाका रूपी झूले पर बैठे हैं।
तै: किमपि कूजन्ति वृक्षा:।मानों वृक्ष उनके माध्यम से कुछ-कुछ कह रहे हैं।
संस्कृत में वाक्यहिंदी में अनुवाद
पिबन्ति पवनं जलं सन्ततम्‌।वृक्ष हमेशा वायु और जल पीते हैं।
साधुजना इव सर्वे वृक्षा:।सभी वृक्ष सज्जनों की भांति होते हैं।
स्पृशन्ति पादै: पातालं च। वृक्ष पैरों से (जड़ों से) पाताल को छूते हैं।
नभ: शिरस्सु वहन्ति वृक्षा:।वृक्ष अपने सिरों से आकाश को ढ़ोते हैं। अर्थात् वे महान हैं और अत्यधिक कार्यभार सँभालते हैं।
संस्कृत में वाक्यहिंदी में अनुवाद
पयोदर्पणे स्वप्रतिबिम्बम्‌ जलरूपी आइने में अपना प्रतिबिम्ब।
कौतुकेन पश्यन्ति वृक्षा:वृक्ष आश्चर्य से देखते हैं।
प्रसार्य स्वच्छायासंस्तरणम्‌।छाया रूपी अपना बिछौना फैलाकर
कुर्वन्ति सत्कारं वृक्षा:।वृक्ष आदर सत्कार करते हैं।
कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 एनसीईआरटी समाधान
कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 एनसीईआरटी के उत्तर
कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 एनसीईआरटी हिंदी में
कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 एनसीईआरटी के उत्तर हिंदी में
कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 6 संस्कृत अध्याय 5 हिंदी अनुवाद