कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 एनसीईआरटी समाधान – तत्वों का आवर्त वर्गीकरण

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 के लिए एनसीईआरटी समाधान पाठ 5 तत्वों का आवर्त वर्गीकरण के सभी प्रश्न उत्तर अभ्यास के सवाल जवाब तथा पाठ के पेजों में दिए गए प्रश्नो के उत्तर विद्यार्थी यहाँ से मुफ्त पा सकते हैं। 10वीं कक्षा विज्ञान अध्याय 5 के सभी समाधान नए सीबीएसई सिलेबस के अनुसार शैक्षणिक सत्र 2022-2023 के लिए तैयार किए गए हैं ताकि विद्यार्थी नवीनतम पाठ्यक्रम के अंध्यायन में कोई दिक्कत महसूस न करें। वर्ग 10 विज्ञान के सभी समाधान कक्षा 10 विज्ञान ऐप में भी संशोधित रूप में दिए गए हैं जो प्ले स्टोर से निशुल्क प्राप्त किया जा सकता है।

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 के लिए एनसीईआरटी समाधान

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 के बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQ) उत्तर

Q1

मेंडेलीफ आवर्त नियम के अनुसार, आवर्त सारणी में तत्व किस क्रम में व्यवस्थित थे

[A]. परमाणु क्रमांक के बढ़ते क्रम में
[B]. परमाणु क्रमांक के घटते क्रम में
[C]. परमाणु भार के घटते क्रम में
[D]. परमाणु भार के बढ़ते क्रम में
Q2

आधुनिक आवर्त सारणी के संदर्भ में कौन-सा कथन सत्य हैं?

[A]. इसमें 18 क्षैतिज पंक्तियाँ हैं जिन्हें आवर्त कहते हैं।
[B]. इसमें 18 ऊर्ध्वाधर कॉलम हैं जिन्हें समूह कहते हैं।
[C]. इसमें 7 क्षैतिज पंक्तियाँ हैं जिन्हें समूह कहते हैं।
[D]. इसनमें 7 ऊर्ध्वाधर कॉलम हैं जिन्हें आवर्त कहते हैं।
Q3

मेंडेलीफ आवर्त सारणी में उन तत्वों के लिए रिक्त स्थान छोड़ दिए गए थे जिनकी खोज बाद में हुई। निम्नलिखित में से किस तत्व को आवर्त सारणी में बाद में स्थान मिला?

[A]. क्लोरीन
[B]. सिलिकन
[C]. जर्मेनियम
[D]. ऑक्सीजन
Q4

निम्नलिखित में से कौन-सा तत्व अम्लीय ऑक्साइड बनता है?

[A]. परमाणु क्रमांक 3 वाला तत्व
[B]. परमाणु क्रमांक 19 वाला तत्व
[C]. परमाणु क्रमांक 12 वाला तत्व
[D]. परमाणु क्रमांक 7 युक्त तत्व

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

मेंडेलीफ ने अपनी आवर्त सारणी तैयार करने के लिए कौन सा मापदंड अपनाया?

मेंडेलीफ ने अपनी आवर्त सारणी तैयार करने जो मापदंड अपनाया, वह इस प्रकार है:

    • मेंडलीफ ने अपनी सारणी में तत्वों को उनके गुणधर्मो, परमाणु द्रव्यमान तथा रासायनिक गुणधर्मो की समानता के आधार पर व्वस्थित किया है ।
    • उन्होंने तत्वों के परमाणु द्रव्यमान एवं उसके भौतिक तथा रासायनिक गुणधर्मो के बीच के संबंधों का अध्ययन किया है।
    • इसमें यह भी देखा गया है कि समान रासायनिक गुणधर्मो वाले विभिन्न तत्व एक निश्चित अंतराल के बाद फिर आ जाते है ।
    • अतः इस प्रकार मेंडेलीफ ने आवर्त सारणी बनाई जिसका मुख्य सिद्धांत है तत्वों के गुणधर्मो एवं उनके परमाणु द्रव्यमान का आवर्त फलन होना।
क्या डॉबेराइनर के त्रिक न्यूलैंड्र्स के अष्टक के स्तम्भ में भी पाए जाते हैं? तुलना करके पता कीजिए।

हाँ, डॉबेराइनर के त्रिक, न्यूलैंड्र्स के अष्टक में भी पाए जाते हैं। जैसे- लीथियम, सोडियम, पोटैशियम के त्रिक, न्यूलैंड्र्स के अष्टक में भी हैं।

डॉबेराइनर के वर्गीकरण की क्या सीमाऐं हैं?

डॉबेराइनर के वर्गीकरण की सीमाऐं इस प्रकार हैं:
1. केवल कुछ ही तत्वों को त्रिकों के रूप में रखा जाता हैं।
2. सभी के बीच के तत्व का परमाणु द्रव्यमान अन्य दो तत्वों के परमाणु के औसत के बराबर नहीं था।
3. इसके अंतर्गत केवल तीन ही तत्वों का वर्ग बनाया गया।

न्यूलैंड्र्स के अष्टक सिद्धांत की क्या सीमाऐं हैं?

न्यूलैंड्र्स के अष्टक सिद्धांत की क्या सीमाऐं इस प्रकार हैं:
1. यह पाया गया की केवल कैल्सियम तक ही लागू होता था तथा इसके बाद के आठवें तत्व का गुणधर्म पहले तत्व से नहीं मिलता है।
2. असमान गुणधर्मों वालें तत्वों को एक वर्ग में रखा गया।
3. न्यूलैंड्स ने कल्पना की कि प्रकृति में केवल 56 तत्व विधमान हैं तथा भविष्य में कोई अन्य तत्व नहीं मिलेगा। लेकिन, बाद में कई तत्व पाए गए जिनके गुणधर्म, अष्टक सिद्धांत से मेल नहीं खाते थे।

गैलियम के अतिरिक्त अब तक कौन – कौन से तत्वों का पता चला है जिसके लिए मेंडेलीफ ने अपनी आवर्त सारणी में खाली स्थान छोड़ दिया था? दो उदाहरण दीजिय।

स्कैंडियम एवं जर्मेनियम।

आपके अनुसार उत्कृष्ट नोबल गैसों को अलग समूह में क्यों रखा गया?

उत्कृष्ट नोबल गैसों को अलग समूह में इसलिए रखा गया है क्योंकि इन गैसों के बारे में देर से पता चला तथा ये अक्रिय गैसें हैं जिनकी मात्रा वायुमंडल में बहुत कम है। इसलिए बाद में जब इन गैसों के बारे में पता चला तो पिछली व्यस्था को छेड़े बिना ही इन्हे एक नए समूहों में रखा गया।

आधुनिक आवर्त सारणी द्धारा किस प्रकार से मेंडेलीफ की आवर्त सारणी की विविध विसंगतियों को दूर किया गया?

आधुनिक आवर्त सारणी के अनुसार तत्वों के गुणधर्म तथा उनके परमाणु क्रमांक का आवर्त फलन होते है। जिसने मेंडेलीफ की आवर्त सारणी के दोषों को दूर किया गया, जो इस प्रकार है:
1. आधुनिक आवर्त सारणी के अनुसार माना गया कि तत्वों के गुण उनकी परमाणु संख्या का आवर्त फलन होते है। इस प्रकार कोबाल्ट एवं निकेल जैसे तत्वों को उचित स्थान पर रखा गया जिनके गुण एक समान हैं।
2. इस आवर्त सारणी में समान गुणों वालें तत्वों को वर्गीकृत किया गया। इससे असंगत तत्वों के एक ही ग्रुप में पाए जाने की समस्या का समाधान हो गया।
3. नई आवर्त सारणी में समस्थानिकों को उचित स्थान देने की समस्या खत्म हो गई।
4. उत्कृष्ट गैसों को उनकी सक्रियता के आधार पर आधुनिक आवर्त सारणी में उचित स्थान दिया गया हैं।

मैग्नीशियम की तरह रासायनिक अभिक्रियाशीलता दिखाने वाले दो तत्वों के नाम लिखिए? आपके चयन का क्या आधार है?

मैग्नीशियम की तरह रासायनिक अभिक्रियाशीलता दिखाने वाले दो तत्वों के नाम है:
कैल्सियम एवं बेरियम
1. उपरोक्त दोनों तत्व एक ही ग्रुप से संबंधित हैं।
2. सभी तत्वों की संयोजकता 2 है।
3. सभी के ऑक्साइड का सूत्र RO है।
4. सभी का हाइड्राइड सूत्र RH₂ है।

आधुनिक आवर्त सारणी में पहले दस तत्वों में कौन सी धातुऐं हैं?

आधुनिक आवर्त सारणी में पहले दस तत्वों में लीथियम और बेरीलियम धातुऐं हैं।

आवर्त सारणी में इनके स्थान के आधार पर इनमें से किस तत्व में सबसे अधिक धात्विक अभिलषण की विषेशता है? Ga, Se, As, Se, Be

बेरीलियम। क्योंकि, दिए गए तत्वों के बीच, Be आवर्त सारणी में, अत्यधिक बाएं हाथ की ओर है।

तत्वों के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास का आधुनिक आवर्त सारणी में तत्व की स्थिति से क्या संबंध है?

किसी तत्व के इलेक्ट्रोनों को विभिन्न कक्षाओं (K, L, M आदि) में व्यवस्थित करने की क्रिया को इलेक्ट्रॉनिक विन्यास कहते हैं। किसी भी तत्व के विन्यास के आधार पर हम आवर्त सारणी में तत्वों की स्थिति बता सकते हैं। जैसे नाइट्रोजन का परमाणु क्रमांक 7 है। अतः नाइट्रोजन का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 2, 5 होगा। नाइट्रोजन के बाहरी कक्ष में पाँच इलेक्ट्रॉन हैं अतः यह तत्व पाँचवे समूह में स्थित होगा और इलेक्ट्रोनिक विन्यास में दो कक्षाएँ हैं अतः यह दूसरे अवर्त में होगा। इस प्रकार किसी भी तत्व के इलेक्ट्रॉनिक विन्यास द्वारा हम आवर्त सारणी में तत्व की स्थिति ज्ञात कर सकते हैं।

मेंडेलीफ की आवर्त सारणी में उत्कृष्ट गैस

मेंडेलीफ वर्गीकरण के अनुसार तत्वों के गुण उनके परमाणु भारों के आवर्ती फलन होते हैं तथा समान भौतिक एवं रासायनिक गुणों युक्त तत्वों की पुनरावृत्ति होती है। उत्कृष्ट गैसें अक्रिय होने के कारण, बिना मूल क्रम में परिवर्तन किए आवर्त सारणी में पृथक समूह के रूप में रखीं जा सकती हैं।

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 के अतिरिक्त प्रश्न उत्तर

तत्वों के वर्गीकरण के लिए मेंडेलीफ द्वारा अपनाए गए प्रक्रम को बताइये। वे आवर्त नियम तक किस प्रकार पहुँचे?

इन तत्वों के ऑक्सीजन तथा हाइड्रोजन के साथ यौगिकों का अध्ययन किया गया (ऑक्साइडों तथा हाइड्राइडों का निर्माण) समान गुणों वाले तत्वों को एक समूह में व्यवस्थित किया गया। मेंडेलीफ ने देखा कि तत्व, परमाणु भारों के बढ़ते हुए क्रम में स्वत: ही व्यवस्थित हो गए।

आधुनिक आवर्त सारणी एवं मेंडेलीफ की आवर्त सारणी में तत्वों की व्वस्था की तुलना कीजिए।

मेंडेलीफ की आवर्त सारणी के अनुसार तत्वों के गुणधर्म उनके परमाणु भार के फलन होते हैं। इस सारणी में आठ समूह तथा छः आवर्त हैं। इस आवर्त सरणी की निम्नलिखित सीमाएं हैं:
1. हइड्रोजन तत्व को सारणी में उचित स्थान नहीं दिया गया है।
2. समस्थानिकों को सही दंग से व्यवस्थित नहीं किया गया है।
3. एक समस्या यह थी की जब हम एक तत्व से दूसरे तत्व की ओर बढ़ते है तो उनके परमाणु द्रव्यमान नियमित रूप से नहीं बढ़ता है। इसलिए यह अनुमान लगाना कठिन हो जाता है कि दो तत्वों के बीच कितने तत्व खोजे जा सकते हैं।
जबकि इसके विपरीत आधुनिक आवर्त सारणी के अनुसार तत्वों के रासायनिक गुणधर्म उनके परमाणु क्रमांक के आवर्त फलन होते है। इस सारणी में अठारह समूह तथा सात आवर्त बनाए गए है तथा कुछ तत्वों जैसे लैंथेनाइड एवं एक्टेनाइड के लिए अलग से स्थान भी दिया गया है। उत्कृष्त गैसों के अक्रिय व्यवहार को देखते हुए उन्हें भी उचित स्थान दिया गया है। इसप्रकार आधुनिक आवर्त सारणी को देखते हुए मेंडेलीफ की आवर्त सारणी की तुलना में कई सुधार हैं।

आधुनिक आवर्त सारणी में कैल्सियम (परमाणु – संख्या 20) के चारों ओर 12, 19, 21 तथा 38 परमाणु – संख्या वाले तत्व स्थित हैं। इनमें से किन तत्वों के भौतिक एवं रासायनिक गुणधर्म कैल्सियम के समान हैं?

आधुनिक आवर्त सारणी में कैल्सियम के चारों ओर 12, 19, 21 तथा 38 परमाणु – संख्या वाले तत्व स्थित हैंI इनमे से सिर्फ परमाणु संख्या 19 तथा 21 वाले तत्वों के भौतिक गुण ही कैल्सियम के समान होंगे क्योंकि इनका द्रव्यमान कैल्शियम के द्रव्यमान के समतुल्य है और द्रव्यमान समान होने पर भौतिक गुण समान होते हैं। इनमे से सिर्फ परमाणु संख्या 12 तथा 38 वाले तत्वों के रासायनिक गुण ही कैल्सियम के समान होंगे क्योंकि ये कैल्सियम के समूह में हैं और कैल्शियम में उपस्थित संयोजकता इलैक्ट्रॉनों की संख्या इन तत्वों के संयोजकता इलैक्ट्रॉन की संख्या के समान होगा।

दसवीं कक्षा विज्ञान के अध्याय 5 के महत्वपूर्ण प्रश्न कौन से हैं?

निम्नलिखित प्रश्न दसवीं कक्षा के विज्ञान के अध्याय 5 के लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं:

    • 1) आधुनिक आवर्त सारणी क्या है?
    • 2) इसमें पहले 10 तत्वों में कौन सी धातु है…?
    • 3) आवर्त सारणी में किस तत्व में सबसे अधिक धात्विक अभिलक्षण की विशेषताएं हैं ?
    • 4) वह कौन से तत्व हैं जो रासायनिक अभी क्रियाशीलता दिखाने वाले हैं?

    इन सभी प्रश्नों के अलावा कुछ महत्वपूर्ण परिभाषाएं मेडलिफ और मेडलिफ की आवर्त सारणी सभी तत्वों के विषय में मूलभूत एवं आवश्यक जानकारियां आदि सभी महत्वपूर्ण है विद्यार्थी को चाहिए कि वह पूरे अध्याय का क्रमगत अध्ययन करें और हमारी साइट पर उपलब्ध वीडियो को देख कर बहुत सारी महत्वपूर्ण अवधारणाओं को समझा जा सकता है।

कक्षा 10 में विज्ञान के अध्याय 5 को सरलता से कैसे समझा जा सकता है?

इस अध्याय को सरलता से समझने के लिए आपको कुछ बातों पर ध्यान देना होगा। जैसे कि तत्व और उनके गुण धर्मों में समानता के आधार क्या है? जिनसे उन्हें वर्गीकृत किया गया है, डोबराइन तांत्रिक क्या है? न्यूलैंड का अष्टक क्या है? मेडलिफ के तत्व और परमाणु द्रव्यमान के आरोही क्रम को समझने की आवश्यकता है।

रासायनिक गुण धर्मों के आधार पर वर्गीकरण समझना है। इसके साथ ही मेंडलीफ द्वारा आवर्त सारणी में खाली स्थानों के आधार पर किन तत्वों की भविष्यवाणी की?

उसके संबंध में तत्वों के परमाणु द्रव्यमान के आरोही क्रम, विसंगतियां परमाणु संख्या आधारभूत गुणधर्म संख्या की खोज संयोजकता या संयोजन क्षमता धात्विक एवं अधात्विक अभिलक्षण गुण धर्मों में आवर्तीता प्रदर्शन आदि का अध्ययन करने से और समय-समय पर रिवीजन करने से यह अध्याय सरल हो जाएगा।

कक्षा 10 विज्ञान के अध्याय 5 में कठिन प्रश्न कौन से हैं?

प्रश्नों की सरलता अथवा कठिनाई विद्यार्थी कि अपनी सूझबूझ और अपने परिश्रम पर निर्भर करती है।
लेकिन इसके पश्चात भी कुछ टॉपिक ऐसे होते हैं, लगभग हर अध्याय में, जिन्हें समझने के लिए विद्यार्थियों को अक्सर कठिन श्रम करना पड़ता है। उन्हीं प्रश्नों में से कुछ प्रश्न निम्न है। जैसे कि

1. डोबराइनर के वर्गीकरण की क्या सीमाएं हैं?
2. न्यूलैंड्स के अष्टक सिद्धांत की क्या सीमाएं हैं?
3. मेंडलीफ ने अपने आवर्त सारणी तैयार करने के लिए कौन सा मापदंड अपनाया?
4. उत्कृष्ट गैसों को अलग समूह में क्यों रखा गया?
5. आधुनिक आवर्त सारणी मेंडलीफ की आवर्त सारणी में तत्वों की व्यवस्था की तुलना आदि।

इसके अलावा आप 10वीं विज्ञान के अध्याय 5 का क्रमवार अध्ययन करें और रसायन विज्ञान को लेकर अपना आधार मजबूत करें, अन्यथा यह अध्याय आपकी कठिनाई को बढ़ा सकता है। ऐसे में आपको चाहिए कि आप एकदम प्रारंभ से जहां से आपको नहीं आता वहां से तैयारी करना शुरू करें। जिन शब्दों, वाक्य और टॉपिको या विषयों में आपको कठिनाई हो, उन्हें पहले समझने का प्रयास करें। उसके बाद सरल विषयों और टोपीको का अध्ययन करें।

दसवीं कक्षा के विज्ञान के अध्याय 5 में सर्वश्रेष्ठ परिणाम कैसे प्राप्त करें?

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 में आप को सर्वश्रेष्ठ परिणाम प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित बातों को जानना होगा गंभीरता और गहराई के साथ –

    1. तत्वों को उनके गुण धर्मों में समानता के आधार पर वर्गीकृत किया गया है या किस प्रकार किया गया, साथ ही डोबराइन ने तत्वों का त्रिक में वर्गीकरण किस प्रकार किया?
    2. न्यूलैंड्स ने अष्टक सिद्धांत दिया उसमें क्या है?
    3. मेंडलीफ ने तत्व कौन के परमाणु द्रव्यमान के आरोही क्रम और रासायनिक गुण धर्मों के आधार पर किस प्रकार से वर्गीकृत किया?
    4. मेंडलीफ ने आवर्त सारणी में खाली स्थानों के आधार पर नए तत्व की भविष्यवाणी किस प्रकार से की?
    5. तत्व को परमाणु द्रव्यमान के आरोही क्रम में व्यवस्थित करने से होने वाली विसंगतियां क्या है?
    6. परमाणु संख्या को आरोही क्रम में व्यवस्थित करने से लेकर, तत्व के आधारभूत गुणधर्म और संख्या की खोज मौजले ने किस प्रकार से की?
    7. इसके साथ ही आधुनिक आवर्त सारणी में तत्वों को 18 ऊर्ध्व स्तंभ हो जिन्हें समूह कहते हैं, तथा साथ 36 पंक्तियों जिन्हें आवर्त कहते हैं, में किस प्रकार से व्यवस्थित किया गया है?
    8. कितने तत्व हैं कौन से तत्व है क्या क्या उनके नाम है?
    9. इस प्रकार व्यवस्थित तत्व परमाणु संयोजकता या संयोजन क्षमता तथा धात्विक अभिलक्षण जैसे गुण धर्मों में आवर्तीता किस प्रकार से प्रदर्शित करते हैं?
    10. उपरोक्त सभी का समग्र अध्ययन करने की आवश्यकता है जिसके पश्चात समय-समय पर रिवीजन करना भी बहुत जरूरी है इससे आप सर्वश्रेष्ठ परिणाम प्राप्त कर सकते हैं।
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 पेज 91 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 पेज 94 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 पेज 100 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 पेज 100 के सवाल जवाब
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 अभ्यास के प्रश्न उत्तर
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 अभ्यास के सवाल जवाब
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 5 के उत्तर