कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 एनसीईआरटी समाधान – रासायनिक अभिक्रियाएं एवं समीकरण

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 के लिए एनसीईआरटी समाधान पाठ 1 रासायनिक अभिक्रियाएं एवं समीकरण अभ्यास के प्रश्न उत्तर पेज के बीच में दिए गए सवालों के जवाब सत्र 2022-2023 के लिए यहाँ उपलब्ध हैं। 10वीं विज्ञान अध्याय 1 के समाधान सीबीएसई बोर्ड के साथ साथ यूपी एमपी बिहार उत्तराखंड आदि बोर्डों के लिए भी लाभदायक हैं। कक्षा 10 का कोई भी विद्यार्थी सभी समाधान यहाँ से निशुल्क प्राप्त कर सकता है। पीडीएफ़ समाधान के लिए तिवारी अकादमी का कक्षा 10 विज्ञान ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। यह ऐप भी मुफ्त में प्रयोग किया जा सकता है।

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 के लिए एनसीईआरटी समाधान

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 के बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQ) उत्तर

Q1

निम्नलिखित में से कौन-सा एक भौतिक परिवर्तन नहीं है?

[A]. जल के क्वथन पर जलवाष्प का बनना
[B]. द्रवित पेट्रोलियम गैस का दहन
[C]. जल में लवण का विलेय होना
[D]. बर्फ के गलन पर जल का बनना
Q2

निम्नलिखित में से कौन-से प्रक्रम में रासायनिक अभिक्रियाएँ होती हैं?

[A]. एक गैस सिलेंडर में निम्न दाब पर ऑक्सीजन गैस का भंडारण
[B]. वायु का द्रवीकरण
[C]. उच्च ताप पर वायु की उपस्थिति में कॉपर की तार को गरम करना
[D]. चीनी की प्याली में खुले में पेट्रोल रखना
Q3

जल का विद्युत-अपघटन एक अपघटन अभिक्रिया है। जल के विद्युत-अपघटन में मुक्त हुई हाइड्रोजन एवं ऑक्सीजन गैस का मोलर अनुपात है

[A]. 1:1
[B]. 4:1
[C]. 1:2
[D]. 2:1
Q4

तेल के नमूने को लंबे समय तक ताजा बनाए रखने के लिए निम्नलिखित में से कौन-सी गैस प्रयुक्त की जाती है?

[A]. हीलियम अथवा नाइट्रोजन
[B]. कार्बन डाइऑक्साइड अथवा हीलियम
[C]. नाइट्रोजन अथवा ऑक्सीजन
[D]. कार्बन डाइऑक्साइड अथवा ऑक्सीजन

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 के अतिरिक्त प्रश्न उत्तर

जिंक तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल के साथ अभिक्रिया पर हाइड्रोजन गैस मुक्त करता है जबकि कॉपर नहीं। समझाइए क्यों?

धातुओं की सक्रियता श्रेणी में जिंक हाइड्रोजन से ऊपर है जबकि कॉपर हाइड्रोजन से नीचे है।
फलत: जिंक तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल से हाइड्रोजन को विस्थापित कर देता है जबकि कॉपर नहीं।

निम्नलिखित में से कौन-से परिवर्तन ऊष्माशोषी और कौन-से ऊष्माक्षेपी प्रकृति के हैं? (a) फैरस सल्फेट का अपघटन (b) सल्फ्यूरिक अम्ल का तनुकरण (c) सोडियम हाइड्रोक्साइड का जल में विलीन होना (d) अमोनियम क्लोराइड का जल में विलीन होना

(b) तथा (c) ऊष्माक्षेपी हैं, क्योंकि इन परिवर्तनों में ऊष्मा मुक्त होती है।
(a) तथा (d) ऊष्माशोषी हैं, क्योंकि इन परिवर्तनों में ऊष्मा अवशोषित होती है।

जुगनू रात में क्यों चमकते हैं?

जगुनू में एक प्राटेीन होता है जिसका एक एजांइम की उपस्थिति में वायव ऑक्सीकरण होता है। यह एक रासायनिक अभिक्रिया है जिसमें दृश्य प्रकाश का उत्सर्जन होता है। अत: जुगनू रात में चमकते हैं।

पौधे पर लटकते हुए अंगूरों का किण्वन नहीं होता है परंतु पौधे से तोड़ने के बाद उन्हें किण्वित किया जा सकता है। किन परिस्थितियों में अंगूरों का किण्वन होता है? यह एक भौतिक परिवर्तन है अथवा रासायनिक परिवर्तन?

अंगूर जब पौधे पर लगे होते हैं, तो जीवित होते हैं। अत: उनका प्रतिरक्षक तंत्र किण्वन को रोकता है। तोड़े हुए अंगूरों में रोगाणु पनप सकते हैं तथा अवायवीय परिस्थितियों में वे किण्वित हो सकते हैं। यह एक रासायनिक परिवर्तन है।

सिल्वर क्लोराइड को गहरे रंग की बोतलों में भंडारित क्यों किया जाता है?

सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में उद्‌भासन पर सिल्वर क्लोराइड निम्नलिखित अभिक्रिया के अनुसार अपघटित हो सकता है।
2AgCl ⎯→ 2Ag + Cl₂
अत, इसे गहरे रंग की बोतलों में भंडारित किया जाता है।

कक्षा 10 विज्ञान पाठ 1 के प्रश्न का जवाब

कुछ दिनों तक खुला रखने पर चाँदी (सिल्वर) की वस्तु काली हो जाती है। जब वस्तु को टूथपेस्ट के साथ रगड़ा जाता है तो वह पुन: चमकने लगती है।

    1. कुछ दिनों तक खुला रखने पर चाँदी (सिल्वर) की वस्तु काली क्यों हो जाती है? संबंधित परिघटना का नाम दीजिए।
    2. निर्मित काले पदार्थ का नाम दीजिए तथा इसका रासायनिक सूत्र दीजिए।

उपरोक्त प्रश्न का उत्तर:

    1. सिल्वर जैसी धातुएँ जब चारों ओर की वस्तुओं जैसे नमी, अम्ल, गैस आदि से अभिक्रिया करती है, तो संक्षारित हो जाती है। इस परिघटना को संक्षारण कहते हं।
    2. वायु में उपस्थित H₂S से अभिक्रिया कर सिल्वर (Ag) एक काला पदार्थ बनाता है। यह काला पदार्थ सिल्वर सल्फाइड (Ag₂S) की पतली परत के रूप में बनता है।

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

संतुलित रासायनिक समीकरण क्या है? रासायनिक समीकरण को संतुलित करना क्यों आवश्यक है?

रासायनिक अभिक्रिया जिसमें दोनों पक्षों के प्रत्येक तत्व के परमाणु बराबर संख्या में होते हैं, संतुलित रासायनिक समीकरण कहा जाता है। द्रव्यमान संरक्षण के नियम के अनुसार द्रव्यमान न बनाया जा सकता है और ना ही नष्ट किया जा सकता है। इसलिए, एक रासायनिक अभिक्रिया में, अभिकारक का कुल द्रव्यमान उत्पादों के कुल द्रव्यमान के बराबर होना चाहिए। अर्थात प्रत्येक तत्व के परमाणुओं की कुल संख्या दोनों तरफ बराबर होनी चाहिए। इसलिए एक रासायनिक समीकरण को संतुलित करना आवश्यक है।

जब लोहे की कील को कॉपर सल्फ़ेट के विलयन में डुबाया जाता है तो विलयन का रंग क्यों बदल जाता है?

जब एक कॉपर सल्फेट विलयन में लोहे की कील डुबायी जाती है, तो लोहा (जो कॉपर की तुलना में अधिक क्रियाशील होता है) कॉपर सल्फेट विलयन से कॉपर का विस्थापन कर देता है और लोहे का सल्फेट बनता है, जो कि रंग में हरा होता है। इसलिए विलयन का रंग बदल जाता है।

लोहे की वस्तुओं को हम पेंट क्यों करते है?

संक्षारण के कारण लोहे की बनी वस्तुएँ का क्षय होता रहता है। उसे इस होने वाले क्षय से बचने के लिए उस पर पेंट किया हटा है। पेंट होने के कारण लोहे और वायु का संपर्क नहीं हो पता है और लोहे की वस्तुएँ बहुत समय तक सुरक्षित रहती हैं।

तेल एवं वसायुक्त खाद्य पदार्थों को नाइट्रोजन से प्रभावित क्यों किया जाता है?

तेल तथा वसायुक्त खाद्य पदार्थ वायु (वायु में उपस्थित ऑक्सीजन) से क्रिया करके विकृतगंधी हो जाते हैं। नाइट्रोजन सामान्य ताप पर आसानी से अभिक्रिया नहीं करती है। इसलिए तेल तथा वसायुक्त खाद्य पदार्थों को नाइट्रोजन से प्रभावित किया जाता है ।

निम्न पदों का वर्णन कीजिए तथा प्रत्येक का एक-एक उदाहरण दीजिए: (a) संक्षारण (b) विकृतगंधिता

(a) संक्षारण: जब कोई धातु, आर्द्रता, अम्ल आदि के संपर्क में आती है, जिससे क्रिया करके धातु की ऊपरी परत कमजोर हो जाती है। इस प्रक्रिया को संक्षारण कहते हैं।
जैसे: लोहे के ऊपर जंग लगना, चाँदी के ऊपर काली परत आना, ताँबे के ऊपर हरी परत चढ़ना आदि संक्षारण के उदहारण हैं।

(b) विकृतगंधिता: तेल तथा वसायुक्त खाद्य पदार्थ वायु (वायु में उपस्थित ऑक्सीजन) से क्रिया करके विकृतगंधी हो जाते हैं। इस प्रक्रिया को विकृतगंधिता कहते हैं। जैसे: चिप्स की थैली में से ऑक्सीजन हटाकर उसमें नाइट्रोजन जैसे कम सक्रीय गैस को भरना विकृतगंधिता को रोकने के लिए किया जाता है।

कक्षा 10 विज्ञान के अध्याय 1 को आसानी से कैसे समझें?

सबसे पहले आपको परिवर्तनों जैसेकि भौतिक परिवर्तन एवं रासायनिक परिवर्तनों को समझना हैं, जिससे आपको रासायनिक अभिक्रियाओं, और रासायनिक समीकरणों को समझने में आसानी मिलेगी। इसके बाद रासायनिक समीकरणों को संतुलित करना, रासायनिक अभिक्रियाओं के प्रकारों को समझना जरूरी हैं।
ध्यान रहे कि जब भी आप दसवीं कक्षा विज्ञान के अध्याय 1 को पढ़ें, या समझने का प्रयास करें, सब कुछ क्रम से होना चाहिए, जैसा कि अध्याय में दिया हुआ है। यदि आप अध्याय को पढ़ते समय क्रम का ध्यान नहीं रखेंगे और जल्दबाजी करेंगे तो यह अध्याय आपको कभी भी पूरी तरह से समझ नही आएगा।
विद्यार्थी को चाहिए कि वह हर बात जैसे की अभिक्रियाओं, समीकरणों, और अभिक्रियाओं के प्रकारों के अधिक से अधिक उदाहरणों के साथ समझे और अपने मस्तिष्क में, यह बात बिठा ले की विस्तृत अध्ययन ही उसे सरलता से सर्वोत्तम परिणामों तक पहुंचा सकता हैं।

10वी कक्षा विज्ञान के अध्याय 1 में महत्वपूर्ण प्रश्न कौन से हैं?

ऊष्माक्षेपी एवं ऊष्माशोषी अभिक्रियाओं के उदाहरणों के साथ, रासायनिक अभिक्रियाओं के प्रकार तथा उदाहरण, रासायनिक समीकरणों को संतुलित करना, रेडॉक्स अभिक्रियाएं एवं उनके उदाहरण, आदि पर कई प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं।
इसके अतिरिक्त अधिक से अधिक रासायनिक समीकरण के उदाहरणों का अध्ययन करने से सभी प्रकार के प्रश्नों के सही उत्तर देने की संभावनाएं बढ़ जाएंगी।

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 में कठिन प्रश्न कौन-कौन से हैं?

प्रत्येक विद्यार्थी की अपनी एक अलग कठिनाई हो सकती है। लेकिन सामान्य रूप से इस अध्याय में रासायनिक समीकरणों को संतुलित करना कठिन प्रतीत हो सकता है। चूंकि अक्सर विद्यार्थी एक प्रकार की जल्दी में रहते हैं और यही जल्दबाजी उनके लिए इस अध्याय में कठिनाई बन जाती हैं।
समीकरणों का संतुलन क्रमवार होना चाहिए, जैसा की अध्याय में दिया हुआ है। पहले उन तत्वों की अणु संख्या को संतुलित करना है, जिनकी संख्या अधिक हो। इसके पश्चात अतिरिक्त तत्वों पर आना है।
अतः सम्पूर्ण अध्याय के सही तरीके से किए गए अध्ययन द्वारा पूरा अध्याय सरल हो जाएगा। कठिनाई वास्तविकता में ज्ञान और प्रयासों को कमी है, जिसे पढ़कर और प्रयास करके ठीक किया जा सकता हैं।

कक्षा 10 विज्ञान के अध्याय 1 में 90% से अधिक अंक कैसे प्राप्त किए जा सकते हैं?

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 में अच्छे अंक लाने के लिए सर्वोत्तम तरीका यह है कि विभिन्न अभिक्रियाओं के साथ-साथ उनके उदाहरण के रूप में अलग-अलग प्रकार के रासायनिक समीकरण को तैयार कर लिया जाए। इस बात का विशेष रुप से ध्यान रखें कि एक अभिक्रिया के लिए कम से कम चार से पांच उदाहरण तैयार रखें। ऐसा करने से इस बात की पूरी संभावना है कि जब भी कोई उदाहरण परीक्षा के प्रश्न पत्र में आपसे पूछा जाए तो आप उसे तुरंत पहचान जाए, क्योंकि आपने प्रत्येक अभिक्रिया के लिए कम से कम पांच उदाहरण तो पढ़े ही हैं।
इसके साथ ही यह भी आवश्यक है कि आप विभिन्न प्रकार के रासायनिक तत्वों के नाम याद रखें। उदाहरण के लिए कॉपर सल्फेट को ही CuSO₄ कहा जाता है । यदि आपने सभी प्रकार की रासायनिक तत्वों के नाम इसी प्रकार से कंठस्थ कर लिए तब निसंदेह आपको 90% या उससे अधिक अंक प्राप्त करने से कोई नहीं रोक सकता।

कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 पेज 6 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 पेज 11 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 पेज 15 के प्रश्न उत्तर
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 अभ्यास के प्रश्न उत्तर
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1 अभ्यास के सवाल जवाब
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1
कक्षा 10 विज्ञान पाठ 1
कक्षा 10 विज्ञान अध्याय 1के उत्तर