कक्षा 7 हिंदी दूर्वा अध्याय 10 हम धरती के लाल के प्रश्न उत्तर

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी दूर्वा अध्याय 10 हम धरती के लाल के प्रश्न उत्तर, रिक्त स्थान और मिलान जैसे प्रश्नों के हल शैक्षणिक सत्र 2023-24 के लिए यहाँ से निशुल्क प्राप्त किए जा सकते हैं। कक्षा 7 के छात्र हिंदी के पाठ 10 को यहाँ दिए गए समाधान तथा अध्ययन सामग्री की मदद से आसानी से याद कर सकते हैं।

तुम्हारे विचार से नया संसार बसाने और नया इंसान बनाने की जरूरत है या नहीं? कारण भी बताओ।

हमारे विचार से नया संसार और नया इंसान बनाने की बेहद जरूरत है, क्योंकि आज के समय में लोग इंसानियत और भाईचारा भूल चुके हैं। इसे फिर से शुरू करने के लिए लोगों के व्यवहार में परिवर्तन लाने के लिए उनके अंदर नई उमंग अर्थात नए संसार के निर्माण की आवश्यकता है।

सौ सौ स्वर्ग उतर आएँगे, सूरज सोना बरसाएँगे।
दूध पूत के लिए बदल देंगे तारों की चाल,
क्या ऊपर लिखी बातें संभव हो सकती हैं? कारण भी पता करो?
उत्तर:
ऊपर लिखी बातें पूर्णतया सच हो सकती हैं, यदि हम समाज में फिर से भाईचारा और प्रेम का माहौल बना दें। इसके लिए करना कुछ नहीं है सिर्फ अपने अंदर के अहंकार को मारना है और लोगों के सुख-दुख को आपस में मिलकर बांटना है।

कवि एक नया संसार बसाना चाहता है जहाँ मानव की मेहनत पूजी जाए, जहाँ जनता में एकता हो, जहाँ सब समान हों, जहाँ सभी सुखी हों। तुम्हें अपने संसार में ऊपर लिखी बातें नजर आती हैं या नहीं? इन बातों के होने या न होने का क्या कारण है?
उत्तर:
हमें अपने संसार में ये बातें नजर नहीं आती हैं क्योंकि आज का आदमी केवल अपने बारे में ही सोचता है। वह केवल अपना ही भला चाहता है। इसीलिए यहां किसी की मेहनत को नहीं उसकी पहचान को पूजा जाता है इसी कारण सब दुखी हैं।

तुम्हारे विचार से क्या रोज त्योहार मनाना उचित है? क्यों?

रोज-रोज त्योहार मनाने से कवि का तात्पर्य यह है कि वह संसार में चारों तरफ खुशहाली और त्योहार जैसा माहौल देखना चाहता है। यदि ऐसा है तो रोज-रोज त्योहार मनाना उचित है।

वाक्य बनाओ
‘सुख-स्वप्नों के स्वर गूँजेंगे।’
इसमें ‘स’ अक्षर बार-बार आया है।
तुम भी नीचे लिखे वर्णों से वाक्य बनाओ। ध्यान रखो कि उस वर्ण से शुरू होने वाले तीन शब्द तुम्हारे
वाक्य में हों।
(क)
क,………………………………………..
(क)
कल कल करते झरने

(ख)
त………………………………………..
(ख)
तरनि तनूजा तट तमाल तरुवर बहु छाए

(ग)
द……………………………………….
(ग)
दहक दहक दहकती आग

कवि ‘हम धरती के लाल’ ही क्यों कहना चाहते हैं?

कवि हम धरती के लाल इसलिए कहना चाहते हैं क्योंकि बच्चे जो मन में ठान लें उसे करके ही मानते हैं। यदि बच्चों के प्रण से ऐसा हो जाए तो संसार स्वर्ग बन जाए।

बताओ तुम ये काम कैसे करोगे? शिक्षक से भी सहायता लो।
(क)
समय को राह दिखाना
(क)
मैं समय को उसका महत्व बताते हुए उसे ऐसी राह दिखाउंगा जहां लोगों का समय खराब न हो और वे सभी समय के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल सकें ।

(ख)
जनता को एक करना
(ख)
मैं जनता को एक करने के लिए उन्हें आपसी भाईचारे के बारे में बताउंगा लड़ाई-झगड़े की बुराइयां बताते हुए उन्हें एक करूंगा।

(ग)
तारों की चाल बदल देना
(ग)
मैं लोगों के अंदर से अंधविश्वास को खत्म करते हुए तारों की चाल बदल दूंगा, अर्थात उन्हें रूढ़ियों से बाहर निकालूंगा।

(घ)
नया भूगोल बनाना
(घ)
मैं समाज से बुराई मिटाकर उसका भूगोल बदल दूंगा।

(च)
नया इंसान बनाना
(च)
मैं इंसान के अंदर से बैर भावना का मैल निकालकर उन्हें साफ-सुथरा इंसान बना दूंगा।

तुम भी अपने संसार के बारे में कल्पनाएँ जरूर करते होंगे। अपने सपनों की दुनिया के बारे में बताओ।

मैं अपने संसार के बारे में ऐसी कल्पना करता हूँ जहां कोई किसी का दुश्मन न हो सभी एक दूसरे के बारे में सोचें एक-दूसरे का कल्याण अपना कल्याण समझें सभी मिलकर रहें।

कक्षा 7 हिंदी दूर्वा अध्याय 10 हम धरती के लाल के प्रश्न उत्तर
कक्षा 7 हिंदी दूर्वा अध्याय 10 हम धरती के लाल
कक्षा 7 हिंदी दूर्वा अध्याय 10
कक्षा 7 हिंदी दूर्वा अध्याय 10 हम धरती के लाल के उत्तर