एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 इतिहास अध्याय 7 महिलाएँ, जाति एवं सुधार

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 इतिहास अध्याय 7 महिलाएँ, जाति एवं सुधार के अभ्यास के प्रश्न उत्तर हिंदी और अंग्रेजी में सीबीएसई सत्र 2023-24 के अनुसार संशोधित रूप में यहाँ दिए गए हैं। सीबीएसई के साथ-साथ राजकीय बोर्ड के विद्यार्थियों के लिए भी यहाँ दिए गए इतिहास के समाधान लाभकारी हैं।

समाज में वर्ण व्यवस्था किस प्रकार फ़ैली हुई थी?

भारतीय हिन्दू सामाजिक संगठन का एक प्रमुख आधार स्तम्भ चार वर्ण या वर्ण-व्यवस्था है। वर्ण-व्यवस्था के अन्तर्गत समाज के सदस्यों को चार वर्णों-ब्राह्मण, छत्रिय, वैश्य और शूद्र में विभाजित किया गया था और प्रत्येक वर्ण के लिए कुछ नियमों व कर्तव्यों को निर्धारित कर दिया गया था।

लड़कियों को स्कूल न भेजने के पीछे लोगों के पास कौन-कौन से कारण होते थे?
शुरुआत में लोग लड़कियों के स्कूल को लेकर संशय में थे। उनका मानना था कि शिक्षा लड़कियों के दिमाग को प्रदूषित कर देगी। उन्हें यह भी डर था कि स्कूल लड़कियों को घर से और उनके घरेलू कर्तव्यों से दूर ले जायेंगे।

ज्योतिराव और अन्य सुधारकों ने समाज में जातीय असमानताओं की आलोचनाओं को किस तरह सही ठहराया?
उन्होंने ब्राह्मणों की श्रेष्ठता के दावे पर हमला किया। उन्होंने तर्क दिया कि आर्य विदेशी थे जिन्होंने देश की सच्ची संतानों को अपने अधीन कर लिया। उन्होंने कहा कि ऊंची जाति को भूमि और सत्ता पर कोई अधिकार नहीं है और भूमि निम्न जाति के लोगों की है जो प्रायद्वीप में भूमि के मूल निवासी थे। कई अन्य समाज सुधारकों ने जाति समानता को बढ़ावा देने के लिए इसी तर्क का इस्तेमाल किया।

प्राचीन ग्रंथों के ज्ञान से सुधारकों को नए कानून बनवाने में किस तरह मदद मिली?
विभिन्न समाज सुधारकों ने लोगों को कुछ सामाजिक बुराइयों को समाप्त करने की आवश्यकता के बारे में समझाने के लिए प्राचीन ग्रंथों का उपयोग किया। प्राचीन ग्रंथों के उद्धरणों से उनके तर्कों को बल मिला।

सती प्रथा क्या थी और इसका उन्मूलन कैसे किया गया?

सती प्रथा में पति की मृत्यु के बाद पत्नी को भी चिता पर बिठा दिया जाता था। उसे भी अपने प्राण त्यागने के लिए विवश किया जाता था। 1829 में भारत में सती प्रथा का अंत हुआ था। तब वायसराय लॉर्ड विलियम बेंटिक ने इस कुप्रथा पर रोक लगाने के लिए राजा राममोहन राय को बुलाकर उनसे मशविरा किया। इस संबंध में कानून बनाकर सदा के लिए सती- प्रथा को बंद करा दिया।

अंग्रेज़ों के काल में ऐसे लोगों के लिए कौन‑से नए अवसर पैदा हुए जो “निम्न” मानी जाने वाली जातियों से संबंधित थे?
शिक्षा ने उन्हें अपनी दुनिया बदलने का एक उपकरण दिया। उसी समय, कई गरीब लोग नौकरियों की तलाश में शहरों की ओर पलायन करने लगे। कुछ लोग असम, मॉरीशस, त्रिनिदाद और इंडोनेशिया में बागानों में काम करने भी गए। नई जगहों पर काम करने से उन्हें उस उत्पीड़न से छुटकारा पाने का मौका मिला जो उन्हें अपने गांवों में ऊंची जाति के लोगों के हाथों झेलना पड़ता था। इसके अलावा, सेना ने नौकरी के अवसर भी दिये।

ब्रह्मो समाज की स्थापन्ना कब और किसने की और इसके द्वारा समाज सुधार के लिए क्या कार्य किये गए?

ब्रह्मो समाज की स्थापना 1830 में की गई थी। यह संस्था सभी प्रकार की मूर्ति पूजा और बलि के विरुद्ध थी और इसके अनुयायी उपनिषदों में विश्‍वास रखते थे। इसके सदस्यों को अन्य धार्मिक प्रथाओं या परंपराओं की आलोचना करने का अधिकार नहीं था। ब्रह्मो समाज ने विभिन्न धर्मों के आदर्शों – ख़ासतौर से हिंदुत्व और ईसाई धर्म के विचारों की आलोचनात्मक व्याख्या करते हुए उनके नकारात्मक और सकारात्मक पहलुओं पर प्रकाश डाला।

निम्नलिखित में से सही या गलत बताएँ
(क) जब अंग्रेज़ों ने बंगाल पर कब्ज़ा किया तो उन्होंने विवाह, गोद लेने, संपत्ति उत्तराधिकार आदि के बारे में नए कानून बना दिए।
(ख) समाज सुधारकों को सामाजिक तौर-तरीकों में सुधार के लिए प्राचीन ग्रंथों से दूर रहना पड़ता था।
(ग) सुधारकों को देश के सभी लोगों का पूरा समर्थन मिलता था।
(घ) बाल विवाह निषेध अधिनियम 1829 में पारित किया गया था।

उत्तर:
(क) जब अंग्रेजों ने बंगाल पर कब्जा कर लिया तो उन्होंने विवाह, गोद लेने, संपत्ति की विरासत आदि के नियमों को विनियमित करने के लिए कई नए कानून बनाए। सत्य
(ख) सामाजिक प्रथाओं में सुधार के लिए तर्क देने के लिए समाज सुधारकों को प्राचीन ग्रंथों को त्यागना पड़ा। सत्य
(ग) सुधारकों को देश के सभी वर्गों के लोगों से पूर्ण समर्थन मिला। असत्य
(घ) बाल विवाह निरोधक अधिनियम 1829 में पारित किया गया था। असत्य

मंदिर प्रवेश आंदोलन के ज़रिए अम्बेडकर क्या हासिल करना चाहते थे?

दलितों को मंदिरों में प्रवेश की अनुमति नहीं थी। यह उन्हें बुनियादी अधिकारों में से एक, यानी सार्वजनिक स्थान पर समान पहुंच से वंचित करने जैसा था। मंदिर प्रवेश आंदोलन का आयोजन करके, अंबेडकर दलितों के लिए आत्म-सम्मान फिर से हासिल करना चाहते थे।

फुले ने अपनी पुस्तक ग़ुलामगीरी को ग़ुलामों की आज़ादी के लिए चल रहे अमेरिकी आंदोलन को समर्पित क्यों किया?
अमेरिका में नागरिक अधिकार आंदोलन ने गुलामी और नस्लीय भेदभाव को समाप्त करने में मदद की। इसलिए फुले ने अपनी पुस्तक गुलामगिरी को आंदोलन को समर्पित कर दिया।

ज्योति राव फुले और रामास्वामी नायकर राष्ट्रीय आंदोलन की आलोचना क्यों करते थे? क्या उनकी आलोचना से राष्ट्रीय संघर्ष में किसी तरह की मदद मिली?

वह कांग्रेस के सदस्य हुआ करते थे, लेकिन जब उन्होंने कांग्रेस द्वारा आयोजित एक भोज के दौरान जातिगत आधार पर बैठने की व्यवस्था देखी तो निराश होकर उन्होंने इसे छोड़ दिया। हालाँकि इस मुद्दे पर इस अध्याय में कुछ भी उल्लेख नहीं किया गया है, फिर भी हम कुछ धारणाएँ बना सकते हैं। दक्षिण अफ्रीका से महात्मा गांधी की वापसी के बाद, अछूतों से संबंधित मुद्दे राष्ट्रवादी नेताओं द्वारा बहस का केंद्र बन गए। इसलिए, यह कहा जा सकता है कि फुले और पेरियार के आंदोलनों ने राष्ट्रवादी नेताओं की राय को आकार देने में मदद की होगी।

ईसाई प्रचारकों की बहुत सारे लोग क्यों आलोचना करते थे? क्या कुछ लोगों ने उनका समर्थन भी किया होगा? यदि हाँ तो किस कारण?
ईसाई मिशनरियों ने आदिवासी और निचली जाति के बच्चों के लिए स्कूल खोले। ईसाई मिशनरियों द्वारा चलाये जा रहे स्कूलों में जाति आधारित अलगाव का पालन नहीं किया जा रहा था। इसलिए, कई रूढ़िवादी लोगों ने मिशनरियों पर हमला किया। समाज सुधारकों ने सामाजिक बुराइयों के विरुद्ध मिशनरियों के कार्यों का समर्थन किया होगा।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 इतिहास अध्याय 7 महिलाएँ, जाति एवं सुधार
कक्षा 8 इतिहास अध्याय 7 महिलाएँ, जाति एवं सुधार
एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 इतिहास अध्याय 7 के प्रश्न उत्तर