एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 इतिहास अध्याय 3 ग्रामीण क्षेत्र पर शासन चलाना

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 इतिहास अध्याय 3 ग्रामीण क्षेत्र पर शासन चलाना के अभ्यास के प्रश्न उत्तर हिंदी और अंग्रेजी मीडियम में शैक्षणिक सत्र 2023-24 के लिए यहाँ से निशुल्क प्राप्त किए जा सकते हैं। कक्षा 8 में हमारे अतीत पुस्तक इतिहास के पाठ 3 के अतिरिक्त प्रश्नों के उत्तर भी दिए गए हैं।

स्थायी बंदोबस्त क्या था और इससे बंगाल में किस प्रकार की समस्या पैदा कर दी थी?

स्थायी बंदोबस्त अथवा इस्तमरारी बंदोबस्त ईस्ट इण्डिया कंपनी और बंगाल के जमींदारों के बीच कर वसूलने से सम्बंधित एक स्थाई व्यवस्था हेतु सहमति समझौता था जिसे बंगाल में लार्ड कार्नवालिस द्वारा 22 मार्च, 1793 को लागू किया गया। किसानों से बेगार, भेंट और उपहार लिया जाने लगा। किसानों को जमीन पर कोई अधिकार नहीं रहा, वे सिर्फ जमीन पर कार्य करते थे। इस नयी व्यवस्था के कारण किसान दिनोंदिन गरीब होते चले गए। गरीब किसानों को अपने अधिकारों की रक्षा के लिए कोई कानूनी संरक्षण प्राप्त नहीं था।

रैयत नील की खेती से क्यों कतरा रहे थे?
बागान मालिकों ने नील के लिए बहुत कम कीमत चुकाई। रैयत अपनी लागत भी वसूल करने की स्थिति में नहीं था, मुनाफा कमाना तो दूर की बात थी। इसका मतलब यह था कि रैयत हमेशा कर्ज में डूबा रहता था। इसलिए, रैयत नील की खेती करने के प्रति अनिच्छुक थे।

राजस्व निर्धारण की नयी मुनरो व्यवस्था के कारण पैदा हुई दो समस्याएँ बताइए।
राजस्व अधिकारी भूमि से आय बढ़ाना चाहते थे। इसलिए, उन्होंने बहुत ऊंची राजस्व मांग तय की।
किसान राजस्व का भुगतान करने में सक्षम नहीं थे। रैयत ग्रामीण इलाकों से भाग गए और कई क्षेत्रों में गांव वीरान हो गए।

यूरोप में भारतीय नील की माँग क्यों थी?

नील का पौधा मुख्य रूप से उष्णकटि बंधीय इलाकों में ही उगता है। तेरहवीं सदी तक इटली, फ्रांस और ब्रिटेन के कपड़ा उत्पादक कपड़े की रँगाई के लिए भारतीय नील का इस्तेमाल कर रहे थे। कपड़े के डाई के रूप में नील एक समृद्ध नीला रंग उत्पन्न करता था। जैसे-जैसे औद्योगीकरण और कपास उत्पादन का विस्तार हुआ, नील की मांग बढ़ती ही गई।

महालवारी व्यवस्था, स्थायी बंदोबस्त के मुकाबले कैसे अलग थी?
1. बिहार और बंगाल में स्थायी बंदोबस्त लागू किया गया। महलवारी की व्यवस्था गंगा घाटी के पश्चिमी भाग, उत्तर-पश्चिम प्रांत, मध्य भारत के कुछ हिस्सों और पंजाब में शुरू की गई थी।
2. इसे 1793 में पेश किया गया था। यह 1822 में लागू हुआ।
3. भू-राजस्व के रूप में भुगतान की जाने वाली राशि निश्चित कर दी गई। सरकार भू-राजस्व नहीं बढ़ा सकी। भू-राजस्व की राशि समय-समय पर संशोधित की जाती थी। सरकार राजस्व में संशोधन कर सकती थी।
4. जमींदार के पास राजस्व एकत्र करने का प्रभार होता है। राजस्व एकत्र करने और कंपनी को भुगतान करने का प्रभार ग्राम प्रधान को दिया गया था।

नील विद्रोह क्यों हुआ और उसके क्या परिणाम हुए?

नील के किसानों को उनकी फसलों के लिए बहुत कम लाभ मिला। नील के तहत भूमि ने किसी भी अन्य फसल की खेती के लिए भूमि को निम्‍नीकृत कर दिया। जिस अनुबंध के तहत नील के बागानदारों ने खेती करने वालों को रखा था, काफी कठोर था। इस ऋण ने लोगों को ऋणग्रस्त कर दिया और परिणामस्वरूप एक विद्रोह हुआ। विद्रोह के बाद बंगाल में नील का उत्पादन ध्वस्त हो गया।

स्थायी बंदोबस्त के मुख्य पहलुओं का वर्णन कीजिए।
स्थायी बंदोबस्त के अनुसार, राजाओं और तालुकदारों को जमींदार के रूप में मान्यता दी गई और उन्हें किसानों से राजस्व संग्रह की जिम्मेदारी दी गई। भुगतान की जाने वाली राशि स्थायी रूप से तय की गई थी और इसलिए इसे स्थायी बंदोबस्त नाम दिया गया।

किन परिस्थितियों में बंगाल में नील का उत्पादन धराशायी हो गया?

रैयतों ने नील की खेती करने से इंकार करना शुरू कर दिया। उनकी लड़ाई में ग्राम प्रधानों और कुछ जमींदारों ने उनका समर्थन किया। विरोध का स्तर इतना बड़ा था कि सरकार को हस्तक्षेप करना पड़ा। समस्याओं की जाँच के लिए इंडिगो आयोग की स्थापना की गई। आयोग ने बागवानों के दोषों को स्वीकार कर लिया और रैयतों को उनकी इच्छानुसार कुछ भी उगाने की अनुमति दे दी। इससे अंततः बंगाल में नील उत्पादन का पतन हो गया।

चंपारण आंदोलन और उसमें महात्मा गांधी की भूमि का के बारे में और जानकारियाँ इकट्ठा करें।

बंगाल में नील उत्पादन के पतन के बाद, नील के यूरोपीय बागान मालिकों ने अपना कारोबार बिहार में स्थानांतरित कर दिया। जब महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका से लौटे, तो बिहार के एक किसान ने उन्हें चंपारण जाने और वहां नील की खेती करने वाले किसानों की दुर्दशा देखने के लिए प्रेरित किया।
1917 में महात्मा गांधी की इस यात्रा को नील बागान मालिकों के खिलाफ चंपारण आंदोलन की शुरुआत के रूप में चिह्नित किया गया था। यूरोपीय बागान मालिक किसानों पर अत्याचार करते थे। किसानों की दयनीय स्थिति देखने के लिए महात्मा गांधी चंपारण पहुंचे। जिला अधिकारियों ने उन्हें चंपारण छोड़ने का आदेश दिया लेकिन उन्होंने आदेश का पालन करने से इनकार कर दिया और सत्याग्रह शुरू कर दिया।

रिक्‍त स्थान भरें
(क) यूरोप में वोड उत्पादकों को …………….. से अपनी आमदनी में गिरावट का ख़तरा दिखाई देता था।
(ख) अठारहवीं सदी के आख़िर में ब्रिटेन में नील की माँग ………… के कारण बढ़ने लगी।
(ग) ………… की खोज से नील की अतंर्राष्ट्रीय माँग पर बुरा असर पड़ा।
(घ) चंपारण आंदोलन ………… के ख़िलाफ़ था।
उत्तर:
(क) यूरोप में वोड के उत्पादकों को नील की खेती से अपनी आमदनी में गिरावट का ख़तरा दिखाई देता था।
(बी) अठारहवीं शताब्दी के अंत में ब्रिटेन में सूती वस्त्र उत्पादन में वृद्धि के कारण नील की मांग बढ़ गई।
(सी) सिंथेटिक रंगों की खोज से नील की अंतर्राष्ट्रीय मांग प्रभावित हुई।
(डी) चंपारण आंदोलन नील बागान मालिकों के खिलाफ था।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 इतिहास अध्याय 3 ग्रामीण क्षेत्र पर शासन चलाना
कक्षा 8 इतिहास अध्याय 3 ग्रामीण क्षेत्र पर शासन चलाना