एनसीईआरटी समाधान कक्षा 11 राजनीति विज्ञान अध्याय 1 राजनीतिक सिद्धांत एक परिचय

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 11 राजनीति विज्ञान अध्याय 1 राजनीतिक सिद्धांत – एक परिचय के प्रश्न उत्तर सीबीएसई तथा राजकीय बोर्ड सत्र 2023-24 के लिए यहाँ दिए गए हैं। 11वीं कक्षा राजनीति शास्त्र के लिए पाठ्यपुस्तक राजनीतिक सिद्धांत के पाठ 1 के सभी सवाल जवाब तथा अतिरिक्त प्रश्नों के उतर छात्र यहाँ से निशुल्क प्राप्त कर सकते हैं।

राजनीतिक सिद्धांत के बारे में नीचे लिखे कौन-से कथन सही हैं और कौन-से गलत?

(क) राजनीतिक सिद्धांत उन विचारों पर चर्चा करते हैं जिनके आधार पर राजनीतिक संस्थाएँ बनती हैं।
(ख) राजनीतिक सिद्धांत विभिन्न धर्मों के अंतर्संबंधों की व्याख्या करते हैं।
(ग) ये समानता और स्वतंत्रता जैसी अवधारणाओं के अर्थ की व्याख्या करते हैं।
(घ) ये राजनीतिक दलों के प्रदर्शन की भविष्यवाणी करते हैं।
उत्तर:
(क) सही
(ख) गलत
(ग) सही
(घ) गलत

ʻराजनीति उस सबसे बढ़कर है, जो राजनेता करते हैं।ʼ क्या आप इस कथन से सहमत हैं? उदाहरण भी दीजिए।

ʻराजनीति उस सबसे बढ़कर है, जो राजनेता करते हैं।‘ हम इस कथन से पूर्णतः सहमत हैं। कुछ लोगों के लिए राजनीति वही है जो राजनेता करते हैं। राजनीति किसी भी समाज का महत्वपूर्ण अंग है। यह बात बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि राजनीति का संबंध किसी भी तरीके से निजी स्वार्थ सिद्ध करने से जुड़ गया है। राजनीति से जुड़े अन्य लोग राजनीति को दांवपेंच से जोड़ते हैं तथा आवश्यकताओं और महत्वकांक्षाओं को पूरा करने के कुचक्र में लगे रहते हैं। महात्मा गांधी ने एक बार टिप्पणी की थी कि राजनीति ने हमें साँप की कुंडली की तरह जकड़ रखा है और इससे जूझने के सिवाय कोई अन्य रास्ता नहीं है।

राजनीतिक संगठन और सामूहिक निर्णय के किसी ढाँचे के बगैर कोई भी समाज जिंदा नहीं रह सकता। जो समाज अपने अस्तित्व को बचाए रखना चाहता है, उसके लिए अपने सदस्यों की विभिन्न आवश्यकताओं और हितों का ध्यान रखना अनिवार्य होता है। परिवार, जनजाति और आर्थिक संस्थाओं जैसी अनेक सामाजिक संस्थाएँ लोगों की आवश्यकताओं और आकांक्षाओं को पूरा करने में सहायता करने के लिए है। ऐसी संस्थाएँ हमें साथ रहने के उपाय खोजने और एक-दूसरे के प्रति अपने कर्तव्यों को निभाने मे सहायता करती हैं। इन संस्थाओं के साथ सरकारें भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

लोकतंत्र के सफ़ल संचालन के लिए नागरिकों का जागरूक होना ज़रूरी है। टिप्पणी कीजिए।

लोकतंत्र के सफ़ल संचालन के लिए नागरिकों का जागरूक होना ज़रूरी है क्योंकि लोगों की सरकार को ही प्रजातंत्र कहा जाता है। नागरिक के रूप में हम किसी संगीत कार्यक्रम के श्रोता जैसे होते हैं। हम गीत और लय की व्याख्या करने वाले मुख्य कलाकार नहीं होते। लेकिन हम कार्यक्रम तय करते हैं, प्रस्तुति का रसास्वादन करते हैं और नये अनुरोध करते हैं। जब उन्हें श्रोताओं के जानकार होने का पता रहता है तो कलाकार भी कार्यक्रम को अच्छी तरह से प्रस्तुत करते हैं। इसी तरह जागरूक नागरिक भी लोकतंत्र के सफ़ल संचालन के लिए आवश्यक है।

राजनीतिक सिद्धांत का अध्ययन हमारे लिए किन रूपों में उपयोगी है? ऐसे चार तरीकों की पहचान करें जिनमें राजनीतिक सिद्धांत हमारे लिए उपयोगी हों।

राजनीतिक सिद्धांत का अधययन हमारे लिए निम्न रूपों में उपयोगी है:
उचित तथा अनुचित की पहचान: छात्र के रूप में हम बहस और भाषण प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेते हैं। हमारी अपनी राय होती तो है कि क्या सही है और क्या गलत, क्या उचित है और क्या अनुचित। राजनीतिक सिद्धांत हमें न्याय या समानता के बारे में सुव्यवस्थित सोच से अवगत कराते हैं, ताकि हम अपने विचारों को परिष्कृत कर सकें और सार्वजनिक हित में सुविज्ञ तरीके से तर्क-वितर्क कर सकें।
पीड़ा निवारण करने हेतु: यदि हम उत्पीड़न महसूस करते हैं, तो हम पीड़ा का निवारण चाहते हैं और यदि उसमें विलंब होता है, तब हम महसूस करते हैं कि हिंसक क्रांति उचित है। राजनीतिक सिद्धांत बस यही करता है कि वह हमें राजनीतिक चीजों के बारे में अपने विचारों और भावनाओं के परीक्षण के लिए उदार बनाता है। यदि हम पीड़ा का निवारण चाहते हैं तो यह समस्या राजनीतिक सिद्धांत का अध्ययन करने से ही दूर होती है।

अधिकार-संपन्न नागरिक बनने में : हम सभी मत देने और अन्य मसलों के फ़ैसले करने के अधिकार-संपन्न नागरिक बनने जा रहे हैं। दायित्वपूर्ण कार्य निर्वहन के लिए उन राजनीतिक विचारों और संस्थाओं की बुनियादी जानकारी हमारे लिए मददगार होती है, जो हमारी दुनिया को आकार देते हैं।
समाज में बदलाव के लिए : राजनीतिक सिद्धांत हमें न्याय या समानता पर व्यवस्थित सोच के बारे में बताता है ताकि हम अपनी राय को सुधार सकें और एक उचित तरीके से और सामान्य हितों के लिए दलील कर सकें। राजनीतिक सिद्धांत सामान्यीकरण, साधन और अवधारणा प्रदान करता है जो समाज में प्रभावी प्रवृत्तियों को समझाने में सहायता करता है।

क्या एक अच्छा/प्रभावपूर्ण तर्क औरों को आपकी बात सुनने के लिए बाध्य कर सकता है?

एक अच्छा/प्रभावपूर्ण तर्क औरों को आपकी बात सुनने के लिए बाध्य कर सकता है।
राजनीतिक सिद्धांत प्रभावपूर्ण एवं तर्कपूर्ण होते हैं जो समाज से संबंधित विचार होते हैं। ये विचार मूल्यों के विषय में होते हैं- स्वतंत्रता, न्याय तथा समानता।

क्या राजनीतिक सिद्धांत पढ़ना, गणित पढ़ने के समान है? अपने उत्तर के पक्ष में कारण दीजिए।

राजनीतिक सिद्धांत पढ़ना, गणित पढ़ने के समान है। हम इस कथन से सहमत हैं। जिस प्रकार प्रत्येक गणित पढ़ने वाला व्यक्ति गणितज्ञ या इंजीनियर नहीं बनता परन्तु जीवन मे गणित अवश्य उपयोग में आता रहता है। यह गुण समस्याओं तथा गणितीय समीकरणों मे दिखाई देता है। उसी प्रकार राजनीतिक सिद्धांत पढ़ने का मतलब यह बिलकुल नहीं है कि सभी राजनीतिज्ञ बनें। व्यावहारिक जीवन में राजनीति की समझ होना भी जरूरी है।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 11 राजनीति विज्ञान अध्याय 1 राजनीतिक सिद्धांत - एक परिचय
एनसीईआरटी समाधान कक्षा 11 राजनीति विज्ञान अध्याय 1 प्रश्न उत्तर